ओमप्रकाश बजाज की बाल-कविताओं का संग्रह

बाल-कविताओं का संग्रह: ओमप्रकाश बजाज

फर्नीचर: ओमप्रकाश बजाज

थोड़ा-बहुत फर्नीचर तो हर घर में होता है,
सोने, उठने-बैठने, रखने को कुछ तो होता है।

आजकल सोफा भी जरूरी है, अलमारी भी,
बच्चों के पढ़ने के लिए एकाध मेज-कुर्सी भी।

पहले लोग बढ़ई को बुला कर लकड़ी लाकर,
घर में ही फर्नीचर पसंद और नाप का बनवाते थे।

फैशन से अधिक महत्व मजबूती को देते थे,
ऐसे सामान पीढ़ियों तक चलते रहते थे।

अब सजावट दिखावे का जमाना है,
दहेज में भी नए डिजाइन का फर्नीचर आना है।

अब फर्नीचर की बड़ी-बड़ी दुकानें होती हैं,
जो लच्छेदार बातों से ग्राहकों का मन मोह लेती हैं।

ओमप्रकाश बजाज

आपको ओमप्रकाश बजाज जी की यह कविता “फर्नीचर” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Maharana Pratap Jayanti

वीर सिपाही: श्याम नारायण पाण्डेय की वीर रस कविता

Here is another excerpt from “” the great Veer-Ras Maha-kavya penned by Shyam Narayan Pandey. …