Poems In Hindi

बच्चों की हिन्दी कविताएं — 4to40 का हिन्दी कविताओ का संग्रह | Hindi Poems for Kids — A collection of Hindi poems for children. पढ़िए कुछ मजेदार, चुलबुली, नन्ही और बड़ी हिंदी कविताएँ. इस संग्रह में आप को बच्चो और बड़ो के लिए ढेर सारी कविताएँ मिलेंगी.

लाल पीली मोटर है

लाल पीली मोटर है, उसका मैं ड्राइवर हूँ। चाबी मैं लगाऊँगा, हैंडल को घुमाऊँगा। पापा को बिठाऊँगा, मम्मी को बिठाऊँगा। मोटर चलेगी पों… पों… पों…।

Read More »

मुझे पुकार लो – हरिवंश राय बच्चन

इसीलिए खड़ा रहा कि तुम मुझे पुकार लो। ज़मीन है न बोलती न आसमान बोलता, जहान देखकर मुझे नहीं ज़बान खोलता, नहीं जगह कहीं जहाँ न अजनबी गिना गया, कहाँ-कहाँ न फिर चुका दिमाग-दिल टटोलता, कहाँ मनुष्य है कि जो उम्मीद छोड़कर जिया, इसीलिए अड़ा रहा कि तुम मुझे पुकार लो। इसीलिए खड़ा रहा कि तुम मुझे पुकार लो। तिमिर-समुद्र …

Read More »

मुखौटे – रामधारी सिंह दिनकर

श्याम बनेगा शेरू अपना गीत बनेगा बन्दर शिल्पा बिल्ली दूध पीएगी बैठी घर के अन्दर बबलू भौं भौं करता कु़त्ता पल पल धूम मचाएगा मोटू अपना हाथी बनकर झूमे सूंड हिलाएगा होगी फिर इन सबकी मस्ती गाती होगी बस्ती खुश होगा हर एक जानवर खुशियॉं कितनी सस्ती हा हा ही ही मैं भी मैं भी लगा मुखौटा गाऊँ तुम हाथी …

Read More »

मुन्ना और दवाई – रामनरेश त्रिपाठी

मुन्ना ने आले पर ऊँचे आले पर जब छोटे हाथ नहीं जा पाये खींच खींच कर अपनी छोटी चौकी ले आये। पंजो के बल उसपर चढ़कर एड़ी भी उचकाई, मुन्ना ने आले पर राखी शीशी तोड़ गिराई। हाथ पड़ा शीशी पर आधा खींचा उसे पकड़ कर वहीँ गिरी वह आले पर से इधर उधर खड़बड़ कर। शीशी तोड़ी कांच बिखेरा …

Read More »

नटखट हम, हां नटखट हम – सभामोहन अवधिया ‘स्वर्ण सहोदर’

नटखट हम, हां नटखट हम। नटखट हम हां नटखट हम, करने निकले खटपट हम आ गये लड़के आ गये हम, बंदर देख लुभा गये हम बंदर को बिचकावें हम, बंदर दौड़ा भागे हम बच गये लड़के बच गये हम, नटखट हम हां नटखट हम। बर्र का छत्ता पा गये हम, बांस उठा कर आ गये हम छत्ता लगे गिराने हम, …

Read More »

नाव चली नानी की नाव चली – हरिंद्रनाथ चट्टोपाध्याय

नाव चली नानी की नाव चली नीना के नानी की नाव चली लम्बे सफ़र पेसामान घर से निकाले गये नानी के घर से निकाले गये इधर से उधर से निकाले गये और नानी की नाव में डाले गये(क्या क्या डाले गये) एक छड़ी, एक घड़ी एक झाड़ू, एक लाडू एक सन्दुक, एक बन्दुक एक तलवार, एक सलवार एक घोड़े की …

Read More »

नानी का घर

नानी के घर जाउंगी मैं, चुप-चुप-चुप। वहां पर लड्डू पेड़े खाऊँगी मैं, छुप-छुप-छुप। और अगर आवाज हो गई, नानी जी के कान पड़ गई, और वो बोली कौन है वहां? मैं बोलूंगी चूहा, मैं बोलूंगी चूहा।

Read More »

ना धिन धिन्ना – रमेश चन्द्र शाह

ना धिन धिन्ना पढ़ते हैं मुन्ना ता-ता थैया आ जा भैया ता थई ता थई ना भई ना भई धिरकिट धा तू, सिर मत खा तू धिन तक धिना झटपट रीना धा धा धा धा अब क्या होगा धिरकिट धिरकिट गिरगिट! गिरगिट! धा धिना धिना धिना वो देखो दीनू बिना धा धिना नाती नक भैया गया है थक धक – …

Read More »

नाच भालू नाच

भालू वाला आया , साथ में भालू लाया। नाच भालू नाच, नाच भालू नाच। भालू वाले ने डुगडुगी बजाई, सुनके ये आवाज बच्चों की भीड़ आयी। सब बच्चों ने मिलकर देखो एक आवाज, नाच भालू नाच, नाच भालू नाच – ४ दोनों हाथ उठा के अरे कमर को मटका के, दोनों हाथ उठा के अरे कमर को मटका के। तू जो अच्छा …

Read More »

मेंढक मामा खेल खेलते – श्री प्रसाद

मेंढक मामा खेल खेलते, उछल-उछल कर पानी में। कभी किसी को धक्का देते, होते जब शैतानी में। तभी मेंढकी डांट पिलाती, कहती “माफ़ी माँगो जी”। “धक्का दिया किया ऊधम क्यों? दूर यहाँ से भागो जी।” मेंढक मामा रोने लगते, मिलती उनको माफ़ी तब। उन्हें मेंढकी चुप करने को, तुरंत खिलाती टॉफी तब। ∼ श्री प्रसाद

Read More »