हम भी वापस जायेंगे – अभिनव शुक्ला

आबादी से दूर,
घने सन्नाटे में,
निर्जन वन के पीछे वाली,
ऊँची एक पहाड़ी पर,
एक सुनहरी सी गौरैया,
अपने पंखों को फैलाकर,
गुमसुम बैठी सोंच रही थी,
कल फिर मैं उड़ जाऊँगी,
पार करुँगी इस जंगल को,
वहां दूर जो महके जल की,
शीतल एक तलैया है,
उसका थोड़ा पानी पीकर,
पश्चिम को मुड़ जाऊँगी,
फिर वापस ना आऊँगी,
लेकिन पर्वत यहीं रहेगा,
मेरे सारे संगी साथी,
पत्ते शाखें और गिलहरी,
मिट्टी की यह सोंधी खुशबू,
छोड़ जाऊँगी अपने पीछे…।

क्यों ना इस ऊँचे पर्वत को,
अपने साथ उड़ा ले जाऊँ।

और चोंच में मिट्टी भरकर,
थोड़ी दूर उड़ी फिर वापस,
आ टीले पर बैठ गई…।

हम भी उड़ने की चाहत में,
कितना कुछ तज आए हैं,
यादों की मिट्टी से आखिर,
कब तक दिल बहलाएंगे,
वह दिन आएगा जब वापस,
फिर पर्वत को जाएंगे,
आबादी से दूर,
घने सन्नाटे में।

∼ अभिनव शुक्ला

Check Also

Ramanathan Krishnan Biography For Kids

Ramanathan Krishnan Biography For Kids

Name: Ramanathan Krishnan Born: 11 April 1937 Nagercoil, Kanyakumari District, Tamil Nadu, British India Country …