Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » जैसी माँ – निदा फ़ाज़ली Mother’s Day Special Hindi Poem
जैसी माँ - निदा फाज़ली

जैसी माँ – निदा फ़ाज़ली Mother’s Day Special Hindi Poem

बेसन की सोंधी रोटी पर
खट्टी चटनी जैसी माँ
याद आती है चौका–बासन
चिमटा, फुकनी – जैसी माँ!

बान की खुर्री खाट के ऊपर
हर आहट पर कान धरे
आधी सोयी–आधी जागी
थकी दुपहरी – जैसी माँ!

चिड़ियों की चहकार में गूँजे
राधा–मोहन, अली–अली
मुर्गे की आवाज़ से खुलती
घर की कुण्डी – जैसी माँ!

बीबी, बेटी, बहन, पड़ोसन
थोड़ी–थोड़ी–सी सब में
दिन भर इक रस्सी के ऊपर
चलती नटनी – जैसी माँ!

बाँट के अपना चेहरा, माथा
आँखें जाने कहाँ गयीं
फटे पुराने इक एलबम में
चंचल लड़की – जैसी माँ!

∼ निदा फ़ाज़ली

Check Also

गए थे नमाज पढ़ने, रोजे गले पड़ गए – Folktale on Hindi Proverb

गए थे नमाज पढ़ने, रोजे गले पड़ गए Folktale on Hindi Proverb

एक मोहल्ले में काजी का परिवार था। सब मोहल्ले वाले काजी के परिवार का सम्मान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *