Yoga Asanas for Diabetes मण्डूकासन - डायबिटीज में रामबाण

मण्डूकासन: डायबिटीज के रोगियों के लिए रामबाण

Mandukasana (Frog posture) is a group of seated asanas in Hatha yoga and modern yoga, all of which put the body in a shape like that of a frog. Another frog-like posture is Bhekasana.

The name comes from the Sanskrit मन्दुक manduka, “a frog”, from the frog-like position of the legs in the asana.

The pose is one of the 32 “useful asanas” listed in the classic 17th century Hatha yoga text Gheranda Samhita; the variant pose Uttana Mandukasana is also in that list.

The pose is entered from a kneeling position. The knees are widened as far as possible, and the feet are positioned with the big toes touching, just behind the buttocks, which in the completed pose described by Vishnudevananda are on the ground. The hands may be placed on the knees.

मण्डूकासन करने की विधि

मण्डूकासन के लिए घुटनों को मोड़कर वज्रासन में बैठ जाएं, यहां घुटने आपस में मिले रहेंगे, साथ ही पीछे अंगूठे मिलें और एड़ियां खुली रहेंगी। अब हाथों की मुट्ठियों का अंगूठा अंदर रखकर बंद कर लें। मुट्ठियों का रुख नीचे की ओर रखते हुए उनको पेट पर नाभि से नीचे रख लें। फिर पूरी सांस भरें व सांस निकालें और पेट को अन्दर की ओर दबाएं।

इसके बाद मुट्ठियों से भी पेट को अंदर की ओर दबाकर आगे की ओर झुक जाएं। अब सिर को थोड़ा ऊपर उठा लें। अब सांस की गति को सामान्य रखते हुए यथाशक्ति आसन में रुके रहें। फिर वापस आते समय सांस भरते हुए धीरे से लौट आएं। इस प्रकार इस आसन का अभ्यास दो से तीन बार कर लें।

सावधानियां

घुटनों में दर्द होने पर वज्रासन न करें, ऐसे में कुर्सी पर बैठकर यह आसन किया जा सकता है। यदि कमर दर्द रहता हो तो आगे न झुकें। ऐसे में सीधे बैठकर केवल पेट को अंदर की ओर दबाएं।

मण्डूकासन के लाभ

यह आसन पेट के सभी अंगों को स्वस्थ बनाए रखता है। इसके रोज अभ्यास से पाचन तंत्र को बल मिलता है और यह कब्ज़, गैस, डकार, मोटापा, भूख न लगना आदि पेट के रोगों में लाभकारी हो जाता है। साथ ही यह मूत्र सम्बन्धी दोष, स्त्री रोग, हर्निया व अस्थमा में भी बड़ा लाभकारी है। यह डायबिटीज़ में भी बड़ा कारगर है। इसके अभ्यास से पैन्क्रियाज स्वस्थ रहती है और उसमें स्थित बीटा सेल्स इंसुलिन का निर्माण करने लगते हैं जिससे ब्लड शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।

Mandukasana Variations:

Another form of the pose, practised in India, begins from a kneeling position with the buttocks on the feet, the fists pressed together in front of the navel, and the trunk inclined forward towards the horizontal, the head stretching forwards. This pose is sometimes called Mandukasana III.

A further form of Mandukasana is entered from a squatting position, the feet shoulder-width apart, the toes pointing slightly outwards. The trunk is inclined forward until the shoulders are just below the knees, and the arms are threaded under the knees. The hands reach around the outsides of the shins to grasp the feet.

  • Adho Mukha Mandukasana: A different form of the pose, practised in the Western world, has the knees and the feet equally wide apart, the lower legs pointing straight backwards, and the body supported also by the forearms flat on the floor, the elbows below or a little in front of the shoulders, the palms pressed together with thumbs uppermost. This pose is sometimes called Adho Mukha Mandukasana, Downward Facing Frog. The Yin Yoga variant of this, named Frog Pose, has the chest lowered to the floor, the palms face down on the floor with the thumbs touching. The pose is characteristically held for three to five minutes.
  • Uttana Mandukasana: Uttana Mandukasana, Extended Frog Pose, has the feet under or just behind the buttocks, the knees wide, and the trunk stretched upwards. The elbows may point straight upwards, the forearms crossed behind the neck and the palms resting on the shoulderblades, or the arms may be stretched out wide to the sides.

Check Also

पेट कम करने के लिए आसान योग आसन

पेट कम करने के लिए आसान योग आसन

पेट कम करने के आसन: ज्यादा फैटी खाना, खराब लाइफस्टाइल, पूरी नींद न लेना, एक्सर्साइज …