Poems In Hindi

बच्चों की हिन्दी कविताएं — 4to40 का हिन्दी कविताओ का संग्रह | Hindi Poems for Kids — A collection of Hindi poems for children. पढ़िए कुछ मजेदार, चुलबुली, नन्ही और बड़ी हिंदी कविताएँ. इस संग्रह में आप को बच्चो और बड़ो के लिए ढेर सारी कविताएँ मिलेंगी.

भेड़ियों के ढंग – उदयभानु ‘हंस’

भेड़ियों के ढंग By Udaybhanu Hans

देखिये कैसे बदलती आज दुनिया रंग आदमी की शक्ल, सूरत, आचरण में भेड़ियों के ढंग। द्रौपदी फिर लुट रही है दिन दहाड़े मौन पांडव देखते है आंख फाड़े हो गया है सत्य अंधा, न्याय बहरा, और धर्म अपंग। नीव पर ही तो शिखर का रथ चलेगा जड़ नहीं तो तरु भला कैसे फलेगा देखना आकाश में कब तक उड़ेगा, डोर–हीन पतंग। …

Read More »

बीते दिन वर्ष – विद्यासागर वर्मा

बीते दिन वर्ष - विद्यासागर वर्मा

बीते दिन वर्ष! रोज जन्म लेती‚ शंकाओं के रास्ते घर से दफ्तर की दूरी को नापते बीते दिन दिन करके‚ वर्ष कई वर्ष! आंखों को पथराती तारकोल की सड़कें‚ बांध गई खंडित गति थके हुए पाँवों में‚ अर्थ भरे प्रश्न उगे माथे की शिकनों पर‚ हर उत्तर डूब गया खोखली उछासों में। दीमक की चिंताएँ‚ चाट गई जर्जर तन‚ बैठा …

Read More »

सारे दिन पढ़ते अख़बार – माहेश्वर तिवारी

सारे दिन पढ़ते अख़बार - माहेश्वर तिवारी

सारे दिन पढ़ते अख़बार; बीत गया है फिर इतवार। गमलों में पड़ा नहीं पानी पढ़ी नहीं गई संत-वाणी दिन गुज़रा बिलकुल बेकार सारे दिन पढ़ते अख़बार। पुँछी नहीं पत्रों की गर्द खिड़की-दरवाज़े बेपर्द कोशिश करते कितनी बार सारे दिन पढ़ते अख़बार। मुन्ने का तुतलाता गीत- अनसुना गया बिल्कुल बीत कई बार करके स्वीकार सारे दिन पढ़ते अख़बार बीत गया है …

Read More »

बेजगह – अनामिका

बेजगह - अनामिका

अपनी जगह से गिर कर कहीं के नहीं रहते केश, औरतें और नाखून अन्वय करते थे किसी श्लोक का ऐसे हमारे संस्कृत टीचर और डर के मारे जम जाती थीं हम लड़कियाँ अपनी जगह पर। जगह? जगह क्या होती है? यह, वैसे, जान लिया था हमने अपनी पहली कक्षा में ही याद था हमें एक–एक अक्षर आरंभिक पाठों का “राम …

Read More »

सच झूठ – ओमप्रकाश बजाज

सच झूठ - ओमप्रकाश बजाज

सच झूठ का फर्क पहचानो झूठे का कहा कभी न मानो। झूठे की संगत न करना, झूठे से सदा बचकर रहना। मित्रता झूठे से न करना, झूठे का कभी साथ न देना। झूठ कभी भी चुप न पाता, देर-सवेर पकड़ा ही जाता। सच्चे का होता सदा बोलबाला, झूठे का मुँह होता काला। ~ ओमप्रकाश बजाज

Read More »

चंदा ओ चंदा – ओम प्रकाश बजाज

चंदा ओ चंदा – ओम प्रकाश बजाज

चंदा ओ चंदा तू है कितना प्यारा, सबकी आखों का है तू दुलारा, चंदा ओ चंदा…. तू तो है नित न्यारा, रोशन करता है रत जग सारा, चंदा ओ चंदा…. बताता कोई तुझे मामा हमारा, हम चाहें सिर्फ तुझे अपना बनाना, चंदा ओ चंदा…. होता है जब उपवास माँ का, तब क्यों इतनी देर लगाता, चंदा ओ चंदा…. तू है …

Read More »

बातचीत की कला – राजीव कृष्ण सक्सेना

बातचीत की कला - राजीव कृष्ण सक्सेना

समाज से मेरा रिश्ता मेरी पत्नी के माध्यम से है सीधा मेरा कोई रिश्ता बन नहीं पाया है सब्जी वाला दूध वाला अखबार वाला धोबी हो या माली सबकी मेरी पत्नी से बातचीत होती रहती है बस मुझे ही समझ नहीं आता कि इन से बात करूँ तो क्या करूँ पर मेरी पत्नी सहज भाव से इन सब से खूब …

Read More »

बसंती हवा – केदार नाथ अग्रवाल

बसंती हवा - केदार नाथ अग्रवाल

हवा हूँ, हवा मैं बसंती हवा हूँ। सुनो बात मेरी – अनोखी हवा हूँ। बड़ी बावली हूँ, बड़ी मस्त्मौला। नहीं कुछ फिकर है, बड़ी ही निडर हूँ। जिधर चाहती हूँ, उधर घूमती हूँ, मुसाफिर अजब हूँ। न घर-बार मेरा, न उद्देश्य मेरा, न इच्छा किसी की, न आशा किसी की, न प्रेमी न दुश्मन, जिधर चाहती हूँ उधर घूमती हूँ। …

Read More »

तुक्तक – बरसाने लाल चतुर्वेदी

तुक्तक - बरसाने लाल चतुर्वेदी

रेडियो पर काम करते मोहनलाल काले साप्ताहिक संपादक उनके थे साले काले के लेख छपते साले के गीत गबते दोनों की तिजोरियों में अलीगढ़ के ताले भाषण देने खड़े हुए मटरूमल लाला दिमाग़ पर न जाने क्यों पड़ गया था ताला घर से याद करके स्पीच ख़ूब रटके लेकिन आके मंच पर जपने लगे माला साले की शादी में गए …

Read More »

बस इतना सा समाचार है – अमिताभ त्रिपाठी ‘अमित’

बस इतना सा समाचार है - अमिताभ त्रिपाठी

जितना अधिक पचाया जिसने उतनी ही छोटी डकार है बस इतना सा समाचार है। निर्धन देश धनी रखवाले भाई‚ चाचा‚ बीवी‚ साले सब ने मिल कर डाके डाले शेष बचा सो राम हवाले फिर भी सांस ले रहा अब तक कोई दैवी चमत्कार है बस इतना सा समाचार है। चादर कितनी फटी पुरानी पैबंदों में खींची–तानी लाठी की चलती मनमानी …

Read More »