Poems For Kids

Poetry for children: Our large assortment of poems for children include evergreen classics as well as new poems on a variety of themes. You will find original juvenile poetry about trees, animals, parties, school, friendship and many more subjects. We have short poems, long poems, funny poems, inspirational poems, poems about environment, poems you can recite

Namaz Poetry in Hindi नमाज याद रखना

Namaz Poetry in Hindi नमाज याद रखना

रमजाने-पैगाम याद रखना, हर वक्त हो नमाज याद रखना। आयतें उतरी जमीं पे जिस रोज, अनवरे-इलाही आयी उस रोज। इनायत खुदा की न कभी भूलना, हर वक्त हो नमाज याद रखना। खयानत का ख्याल तू दिल से निकाल दे, खुदी को मिटा खुदाई में तस्लीम कर दे। क़यामत के कहर में भी ये कलाम न छोड़ना, हर वक्त हो नमाज …

Read More »

Hindi Poem on Man’s Status आदमी की औकात

Hindi Poem on Man's Status आदमी की औकात

औरत के दिल को पढ़ना भले मुश्किल हो गया हो, आदमी की औकात को पढ़ना हमेशा से आसान काम रहा है। एक माचिस की तिल्ली, एक घी का लोटा, लकड़ियों के ढेर पे कुछ घण्टे में राख… बस इतनी-सी है आदमी की औकात! एक बूढ़ा बाप शाम को मर गया, अपनी सारी ज़िन्दगी, परिवार के नाम कर गया। कहीं रोने …

Read More »

Hasya Vyang Hindi Poem हुल्लड़ और शादी – हुल्लड़ मुरादाबादी

Hasya Vyang Hindi Poem हुल्लड़ और शादी - हुल्लड़ मुरादाबादी

हुल्लड़ और शादी – हुल्लड़ मुरादाबादी दूल्हा जब घोड़ी चढ़ा, बोले रामदयाल हुल्लड़ जी बतलइए, मेरा एक सवाल मेरा एक सवाल, गधे पर नहीं बिठाते दूल्हे राजा क्यों घोड़ी पर चढ़ कर आते? कह हुल्लड़ कविराय, ब्याह की रीत मिटा दें एक गधे को, गधे दूसरे पर बिठला दें! मंडप में कहनें लगीं, मुझसे मिस दस्तूर लड़की की ही माँग में, …

Read More »

Baal Kavita in Hindi गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार

Baal Kavita in Hindi गड़बड़ झाला - देवेंन्द्र कुमार

गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार आसमान को हरा बना दें धरती नीली, पेड़ बैंगनी गाड़ी ऊपर, नीचे लाला फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला! कोयल के सुर मेंढक बोले उल्लू दिन में आँखों खोले सागर मीठा, चंदा काला फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला! दादा माँगें दाँत हमारे रसगुल्ले हों खूब करारे चाबी अंदर, बाहर ताला फिर क्या होगा – …

Read More »

चलो तिरंगे को लहरा लें Patriotic poem in Hindi

चलो तिरंगे को लहरा लें Patriotic poem in hindi

अब सोया जन तंत्र जगा लें, जन-जन को विश्वास दिला लें। निर्भय होकर हम अम्बर में, चलो तिरंगे को लहरा लें॥ चौराहों पैर चीखें क्यों हैं, अर्थ-व्यवस्था मौन दिखती, मजदूरों की बस्ती में तो, अब रोटी क्यूँ गौण दिखती। रोटी के बदले में बोटी, छीन रहें हैं ये धन वाले – गिरगिट जैसे जमाखोर हैं, आओ इनको नाच-नचा लें। अब …

Read More »

बच्चे अच्छे लगते हैं Hindi Poem on Happy Children

बच्चे अच्छे लगते हैं Hindi Poem on Happy Children

हंसते-मुस्कुराते-खिलखिलाते बच्चे, अच्छे लगते हैं। दौड़ते-भागते, कूदते, फांदते बच्चे अच्छे लगते हैं। मासूम सी प्यारी शरारते करते बच्चे, अच्छे लगते हैं। यूनिफार्म पहने स्कूल को जाते बच्चे, अच्छे लगते हैं। खेल मैदान में कोई गेम खेलते बच्चे, अच्छे लगते हैं। स्वयं ईष्वर का रूप होते हैं बच्चे, अच्छे लगते हैं। ~ ओम प्रकाश बजाज

Read More »

मुझे बचा लो, माँ – ईपशीता गुप्ता Poem on Insecure Feelings of Girl

मुझे बचा लो, माँ - ईपशीता गुप्ता Poem on Insecure Feelings of Girl

मुझे बचा लो, माँ मुझे बचा लो! माँ, मुझे डर लगता है। माँ, चौखट से निकलते ही दादा, चाचा के अंदर आने से, सिहर जाती हूँ। राहों में घूमती निगाहों से, मैं सिमट जाती हूँ। हँस कर बात करते हर मानव से, मैं संभल जाती हूँ। पुरुष के झूठे अभियान से, मैं सहम जाती हूँ। सिहर-सिहर, सहम-सहम कर जीना नहीं …

Read More »

तुम और मैंः दो आयाम – रामदरश मिश्र Hindi Love Poem

तुम और मैंः दो आयाम - रामदरश मिश्र Hindi Love Poem

(एक) बहुत दिनों के बाद हम उसी नदी के तट से गुज़रे जहाँ नहाते हुए नदी के साथ हो लेते थे आज तट पर रेत ही रेत फैली है रेत पर बैठे–बैठे हम यूँ ही उसे कुरेदने लगे और देखा कि उसके भीतर से पानी छलछला आया है हमारी नज़रें आपस में मिलीं हम धीरे से मुस्कुरा उठे। (दो) छूटती …

Read More »