Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Motivational Desh Prem Hindi Poem पुष्प की अभिलाषा
Motivational Desh Prem Hindi Poem पुष्प की अभिलाषा - माखनलाल चतुर्वेदी

Motivational Desh Prem Hindi Poem पुष्प की अभिलाषा

चाह नहीं मैं सुरबाला के
गहनों में गूँथा जाऊँ

Pushpa Ki Abhilashaचाह नहीं, प्रेमी-माला में
बिंध प्यारी को ललचाऊँ

चाह नहीं, सम्राटों के शव
पर हे हरि, डाला जाऊँ

चाह नहीं, देवों के सिर पर
चढ़ूँ भाग्य पर इठलाऊँ

मुझे तोड़ लेना वनमाली
उस पथ पर देना तुम फेंक

मातृभूमि पर शीश चढ़ाने
जिस पर जावें वीर अनेक

माखनलाल चतुर्वेदी

आपको “माखनलाल चतुर्वेदी” जी की यह कविता “पुष्प की अभिलाषा” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

अल्लाह का घर सब जगह है-Hindi Folktale on Proverb God Is Everywhere

अल्लाह का घर सब जगह है Hindi Folktale on Proverb ‘God Is Everywhere’

गुरु नानक के अधिकांश जीवन भ्रमण मेँ बिताया। वे देश के विभिन्न स्थानोँ पर घूमते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *