क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी: बहादुर शाह जफर

क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी: बहादुर शाह जफर

वैसे तो होली पूरे भारत में मनाई जाती है पर अलग-अलग सांस्कृतिक अंचलों की होली की अपनी खासियत है। हां, एक बात जो सभी जगहों की होली में सामान्य है, वह है महिलाओं और पुरुषों के बीच रंग खेलने के बहाने अनूठे विनोदपूर्ण और शरारत से भरे प्रसंग। ये प्रसंग शुरू से होली की पहचान से जुड़े रहे हैं। और ऐसा भी नहीं है कि इस मस्ती में नहाने वाले कोई एक धर्म या संप्रदाय के लोग हों। आखिरी मुगल बादशाह बहादुर शाह जफर की लिखी होली आज भी लोग गाते हैं – “क्यों मोपे रंग की मारे पिचकारी, देखो कुंअर जी दूंगी गारी“।

क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी: बहादुर शाह जफर

क्यों मो पे रंग की मारी पिचकारी,
देखो कुंवरजी दूंगी मैं गारी।
भाग सकूँ मैं कैसे मो से भागा नहीं जात,
ठाड़ी अब देखूं और को सनमुच में आत।
बहुत दिनन में हाथ लगे हो कैसे जाने दूँ,
आज फगवा तो सं का था पीठ पकड़ कर लूँ।

जब फागुन रंग झांकते हों,
तब देख बहारें होली की।
जब देख के शोर खड़के हों,
तब देख बहारें होली की।
परियों के रंग दमकते हों,
तब देख बहारें होली की।

बसंत खेलें इश्क़ की आ प्यारा,
तुम्हीं में चाँद में हूँ ज्यों सितारा।
जीवन के हौज़खाना में रंग मदन भर,
सो रोम रोम चारकिया लाये धरा।
नबी सादे बसंत खेलिए क़ुतुब शाह,
रंगीला हो रिहा तिर्लोक सारा।

ले अबीर और अरगजा भर कर रुमाल,
छिड़कते हैं और उड़ाते हैं गुलाल ।
ज्यों झड़ी हर सू है पिचकारी की धार,
दौड़ती हैं नारों बीजकी की सार।

गुलज़ार खिले हों परियों के,
और मजलिस की तैयारी हो ।
कपड़ों पर रंग के चीतों से,
खुशरंग अजब गुलकारी हो।

∼ बहादुर शाह जफर

होली बहुत ही प्राचीन पर्व है। मुगलकाल से लेकर ब्रिटिशकाल में भी होली खेले जाने के प्रमाण मिलते है। होली को भले ही हिंदूओं का त्योहार माना जाता है, लेकिन इस त्योहार को भारत में केवल हिंदू ही नहीं बल्कि हर धर्म के लोग धूमधाम से मनाते आ रहे हैं। भारत के अनेक मुगलकालीन मुस्लिम कवियों ने भी अपनी रचनाओं में इस बात का उल्लेख किया है। उनके प्रमाणों के अनुसार मुगलकाल में भी मुगल शासक बड़ी उमंग के साथ होली मनाते थे। अमीर खुसरो, इब्राहिम रसखान, महजूर लखनवी, शाह नियाजी जैसे मुगलकालीन मुस्लिम कवियों की रचनाओं में होली का जिक्र है। मुगलकालीन इतिहासकार अलबरूनी और अन्य मुगलकालीन कवियों के अनुसार अकबर, हुमायूं, जहांगीर, शाहजहां और बहादुरशाह जफर जैसे शासकों के दरबार में भी होली खेली जाती थी।

Check Also

मुबारक ईद मुबारक - जलीस शेरवानी

मुबारक ईद मुबारक Eid Special Bollywood Song

मुबारक ईद मुबारक: जलीस शेरवानी अस्सलाम अलैकुम अस्सलाम, ईद का है यारो यह पयाम… यह ईद …

One comment

  1. bahut hi badhiya sir