Home » Poems For Kids

Poems For Kids

Poetry for children: Our large assortment of poems for children include evergreen classics as well as new poems on a variety of themes. You will find original juvenile poetry about trees, animals, parties, school, friendship and many more subjects. We have short poems, long poems, funny poems, inspirational poems, poems about environment, poems you can recite

Chant To Netaji Subhas Chandra Bose – An Inspirational Poetry

Chant To Netaji Subhas Chandra Bose - An Inspirational Poetry

Netaji Subhas You are not dead, You are alive Alive for ever Your name is all around At the five point crossing Or at the green brigade ground As a simple statue Under the shade of a tree Now resting in peace But you did not know rest While you were alive So you are still alive You are alive …

Read More »

नेताजी का तुलादान – गोपाल प्रसाद व्यास: Patriotic Poem on Subhash Chandra Bose

नेताजी का तुलादान - गोपाल प्रसाद व्यास: Patriotic Poem on Subhash Chandra Bose

देखा पूरब में आज सुबह, एक नई रोशनी फूटी थी। एक नई किरन, ले नया संदेशा, अग्निबान-सी छूटी थी॥ एक नई हवा ले नया राग, कुछ गुन-गुन करती आती थी। आज़ाद परिन्दों की टोली, एक नई दिशा में जाती थी॥ एक नई कली चटकी इस दिन, रौनक उपवन में आई थी। एक नया जोश, एक नई ताज़गी, हर चेहरे पर …

Read More »

वो था सुभाष – Hindi Patriotic Poem on Subhas Chandra Bose

वो था सुभाष - Hindi Patriotic Poem on Subhas Chandra Bose

वो था सुभाष, वो था सुभाष वो भी तो खुश रह सकता था महलों और चौबारों में उसको लेकिन क्या लेना था तख्तो-ताज-मीनारों से? वो था सुभाष, वो था सुभाष अपनी मां बंधन में थी जब कैसे वो सुख से रह पाता रणदेवी के चरणों में फिर क्यों ना जाकर शीश चढ़ाता? अपना सुभाष, अपना सुभाष डाल बदन पर मोटी …

Read More »

सुभाष चन्द्र बोस – गोपाल प्रसाद व्यास: देश भक्ति कविता

सुभाष चन्द्र बोस - गोपाल प्रसाद व्यास: देश भक्ति कविता

है समय नदी की बाढ़ कि जिसमें सब बह जाया करते हैं, है समय बड़ा तूफ़ान प्रबल पर्वत झुक जाया करते हैं। अक्सर दुनिया के लोग समय में चक्कर खाया करते हैं, लेकिन कुछ ऐसे होते हैं, इतिहास बनाया करते हैं। यह उसी वीर इतिहास-पुरुष की अनुपम अमर कहानी है, जो रक्त कणों से लिखी गई,जिसकी जय-हिन्द निशानी है। प्यारा …

Read More »

विश्व–सुंदरी Gopal Singh Nepali Hindi Poem about Beauty Queen

विश्व–सुंदरी Gopal Singh Nepali Hindi Poem about Beauty Queen

जल रहा तुम्हारा रूप–दीप कुंतल में बांधे श्याम घटा नयनों में नभ की नील छटा अधरों पर बालारुण रंजन मृदु आनन में शशी–नीराजन जल रहा तुम्हारा रूप–दीप भौंहों में साधे क्षितिज–रेख तुम अपनी रचना रहीं देख हाथों में विश्व–कमल सुन्दर मधु–मधुर कंठ में कोकिल–स्वर जल रहा तुम्हारा रूप–दीप सुन्दरी तुम्हारे कुसुम बाण उड़ चले चूमने प्राण–प्राण दिशिदिशि से जयजयकार उठा …

Read More »

हैं सुभाष चन्द्र बोस अमर Hindi poem on Netaji Subhash Chandra Bose

हैं सुभाष चन्द्र बोस अमर Hindi poem on Netaji Subhash Chandra Bose

परमवीर निर्भीक निडर, पूजा जिनकी होती घर घर, भारत मां के सच्चे सपूत, हैं सुभाष चन्द्र बोस अमर। सन अट्ठारह सौ सत्तानवे, नेता जी महान थे जन्मे, कटक ओडिशा की धरती पर, तेईस जनवरी की शुभ बेला में। देशभक्तों के देशभक्त, दूरंदेश थे अति शशक्त, नारा जय हिन्द का देकर बोले, आजादी दूंगा तुम देना रक्त। आजादी की लड़ी लड़ाई, …

Read More »

Ageless Tamil – English Poem that will make Tamilians swell with pride

Ageless Tamil - English Poem that will make Tamilians swell with pride

Long before metamorphosis of rocks We matured Tamils have lived some say Rice with farming appeared in the land Life with a code of conduct man founded Was looking for green pastures Journeyed on foot then – later Words and language appeared in the world Tamils provided culture and made the world glow.

Read More »

Thai Pongal – English poem on Pongal Festival

Thai Pongal - English poem on Pongal Festival

Milk Rice the Golden child came – granting immeasurable ecstasy in her cooking Farmers with the beauty of lion dream a picturesque memory this new year gleam. Elevated threshing floor courtyard the face-where month of January gave love’s kiss with rice share abundance in red rice and charity – sweet to the tongue January child glad to meet. With the …

Read More »

Lohri Folk Song सुंदर मुंदरिये हो, तेरा कौन बेचारा हो

Lohri Folk Song सुंदर मुंदरिये हो, तेरा कौन बेचारा हो

The ‘ho‘s are in chorus Sunder mundriye ho! Tera kaun vicaharaa ho! Dullah bhatti walla ho! Dullhe di dhee vyayae ho! Ser shakkar payee ho! Kudi da laal pathaka ho! Kudi da saalu paatta ho! Salu kaun samete! Chache choori kutti! zamidara lutti! Zamindaar sudhaye! bade bhole aaye! Ek bhola reh gaya! Sipahee pakad ke lai gaya! Sipahee ne mari …

Read More »

लो आ गयी लोहड़ी वे – जावेद अख्तर

लो आ गयी लोहड़ी वे - जावेद अख्तर

लो आ गयी लोहड़ी वे, बना लौ जोड़ी वे, कलाई कोई यू थामो, ना जावे छोड़ी वे, ना जावे छोड़ी वे छूठ ना बोली वे, कुफर ना टोली वे, जो तुने खायी थी कसमे, इक इक तोड़ी वे, इक इक तोड़ी वे लो आ गयी लोहड़ी वे, बना लो जोड़ी वे… तेरे कुर्बान जावा, तेरी मर्ज़ी जान जावा, तोह हर …

Read More »