मुझे बचा लो, माँ - ईपशीता गुप्ता Poem on Insecure Feelings of Girl

मुझे बचा लो, माँ – ईपशीता गुप्ता Poem on Insecure Feelings of Girl

मुझे बचा लो, माँ

मुझे बचा लो! माँ, मुझे डर लगता है।
माँ, चौखट से निकलते ही

दादा, चाचा के अंदर आने से, सिहर जाती हूँ।
राहों में घूमती निगाहों से, मैं सिमट जाती हूँ।

हँस कर बात करते हर मानव से, मैं संभल जाती हूँ।
पुरुष के झूठे अभियान से, मैं सहम जाती हूँ।
सिहर-सिहर, सहम-सहम कर जीना नहीं चाहती हूँ।
माँ, मुझे बचा लो, लगता है मुझे डर!

माँ, मैं वापस तेरे गर्भ में सिमटना चाहती हूँ।
केवल तेरी ममता की छाया चाहती हूँ।
माँ, मुझे बचा लो, मैं डर में नही जीना चाहती हूँ।

~ ईपशीता गुप्ता  St. Gregorios School, Gregorios Nagar, Sector 11, Dwarka, New Delhi

आपको ईपशीता गुप्ता की यह कविता “मुझे बचा लो, माँ” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Janmashtami Coloring Pages

Janmashtami Coloring Pages For Kids

Janmashtami Coloring Pages For Kids: Krishna Janmashtami, also known as Krishnashtami, Saatam Aatham, Gokulashtami, Ashtami …