हुआ पसीने से तर: तपती गर्मी पर हिंदी बाल-कविता

हुआ पसीने से तर: तपती गर्मी पर हिंदी बाल-कविता

गर्मी में खाने को मैंने
फ्रिज से सेब निकाला,
गिरते-गिरते बचा हाथ से
झट से उसे संभाला।

बाहर आते ही गर्मी से
हुआ बहुत बेहाल,
बोला भइया नहीं उतारो
मेरी नाजुक खाल।

घबराहट में सिसक पड़ा वह
लगा कांपने थर-थर,
आंसू भर रोया बेचारा
हुआ पसीने से तर।

~ रावेंद्र कुमार रवि

आपको रावेंद्र कुमार रवि जी की यह कविता “हुआ पसीने से तर” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

National Flag Of India: Tiranga (Tricolor Flag)

National Flag Of India: Tiranga / Tricolor

National Flag of India is a national symbol designed in horizontal rectangular shape. It is …