Yoga

योग बनाये त्वचा चमकदार

योग बनाये त्वचा चमकदार

सुंदर और चमकीली त्वचा किसे आकर्षित नहीं करती? अच्छे खान-पान, सही मात्रा में पानी पीने और बढ़िया नींच लेने के साथ-साथ कुछ योगासन आपकी त्वचा को चमकदार बना सकते हैं। आइए जानें, कौन-कौन से योगासन आपकी सुदंर और चमकीली स्किन की चाहत को पूरा कर सकते हैं… प्राणायाम: पांच-पांच मिनट का प्राणायाम और ध्यान आपको पूरे दिन लंबी रेस के …

Read More »

Yoga brings positive energy, inculcates spirituality

Yoga brings positive energy, inculcates spirituality

Yoga brings immense positive energy, mental and physical health and inculcates spirituality. We come to know better of our inner self, with yoga and meditation, said renowned yog guru Swami Dayanand Saraswati on the fifth day of International Yoga Festival being held at Swarg Ashram, Rishikesh in Pauri Garhwal, here today. Film actors Pooja Bedi, Dino Morea, and Anu Aggarwal, …

Read More »

ब्रम्हचर्य सहायक प्राणायाम – Brahmacharya Pranayama

ब्रम्हचर्य सहायक प्राणायाम - Brahmacharya Pranayama

सीधा लेट जाये पीठ के बल से.. कान में रुई के छोटे से बॉल बना के कान बंद कर देना। अब नजर नासिका पर रख देना और रुक-रुक के श्वास लेता रहें। आँखों की पुतलियाँ ऊपर चढ़ा देना … शांभवी मुद्रा शिवजी की जैसी है। वो एकाग्रता में बड़ी मदद करती है। जिसको अधोमुलित नेत्र कहते है। आँखों की पुतली …

Read More »

आकर्ण धनुरासन – Shooting Bow Posture

आकर्ण धनुरासन - Shooting Bow Posture

संस्कृत शब्द कर्ण का अर्थ होता है कान और आकर्ण का अर्थ कान के निकट। आकर्ण धनुरासन (Shooting Bow Posture) का अर्थ खींचे हुए धनुष और बाण के आकार का आसन। जब कोई धनुष-बाण चलाता है तो उस अवस्था में बाण (तीर) के पीछे के हिस्से को कान तक खींचकर लाया जाता है। इस प्रत्यंचा चढ़ाकर रखने की स्थिति को …

Read More »

गौ मुखासन – Gomukhasana

गौ मुखासन - Gomukhasana

इस आसन में व्यक्ति की आकृति गाय के मुख के समान बन जाती है इसीलिए इसे गोमुखासन कहते हैं। गोमुखासन की विधि: पहले दंडासन अर्थात दोनों पैरों को सामने सीधे एड़ी-पंजों को मिलाकर बैठे। हाथ कमर से सटे हुए और हथेलियां भूमि टिकी हुई। नजरें सामने। अब बाएं पैर को मोड़कर एड़ी को दाएं नितम्ब के पास रखें। दाहिने पैर …

Read More »

Writing Can Be Prayerful

Writing Can Be Prayerful — The information explosion and popularity of debates and talks in electronic media has perhaps reduced the art of writing to just another has-been activity. And yet, the more information we are exposed to, the more we are prone to introspection and reflection – which find sensitive expression in writing. We mull over things, integrate the …

Read More »

Uncovering Relative Truths

Uncovering Relative Truths — The moment we find some answers to questions we have about creation, the euphoria disappears for new questions emerge. ‘Fractals’, discovered by Mandelbrot, are similar patterns repeating themselves at higher orders of dimension. If you magnify a fine area of fractal structure, you get more information in proportion to the new scale. Thus, the world not …

Read More »

Truth, Love And Compassion

Truth, Love And Compassion — Truth, love and compassion are three principles in which all faiths are founded and which none can speak against. If we abide by these, we have imbibed the basic teaching of all religions. Truth instils fearlessness. Where there is love, there is always sacrifice. If there is compassion, there can be no violence. Fearlessness, sacrifice …

Read More »