Poems In Hindi

बच्चों की हिन्दी कविताएं — 4to40 का हिन्दी कविताओ का संग्रह | Hindi Poems for Kids — A collection of Hindi poems for children. पढ़िए कुछ मजेदार, चुलबुली, नन्ही और बड़ी हिंदी कविताएँ. इस संग्रह में आप को बच्चो और बड़ो के लिए ढेर सारी कविताएँ मिलेंगी.

लुका चुप्पी बहुत हुई – जावेद अख्तर

लुका चुप्पी बहुत हुई सामने आ जा ना कहा कहा ढूंढा तुझे थक गयी है अब तेरी मां आजा सांझ हुई मुझे तेरी फिकर धुन्धला गयी देख मेरी नज़र आ जा ना… क्या बताऊ मां कहा हूँ मै यहा उडने को मेरे खुला आसमान है तेरे किस्सो जैसा भोला सलोना जहा है यहा सपनो वाला मेरी पतंग हो बेफिक्र उद्द …

Read More »

कितनी बड़ी दिखती होगी – श्रीनाथ सिंह

कितनी बड़ी दिखती होंगी, मक्खी को चीजें छोटी। सागर सा प्याला भर जल, पर्वत सी एक कौर रोटी॥ खिला फूल गुलगुल गद्दा सा, काँटा भारी भाला सा। ताला का सूराख उसे, होगा बैरगिया नाला सा॥ हरे भरे मैदान की तरह, होगा इक पीपल का पात। भेड़ों के समूह सा होगा, बचा खुचा थाली का भात॥ ओस बून्द दर्पण सी होगी, …

Read More »

खुशियो का दिन आया है – समीर

खुशियो का दिन आया है, जो मांगा वो पाया है… आज मुझे मेरी मां ने बेटा कहके बुलाया है खुशियो का दिन आया है जो मांगा वो पाया है आज मुझे मेरी मां ने बेटा कहके बुलाया है मां मेरी मां, मां मेरी मां… पूछ ना मुझको कितना रुलाती थी, हर घडी हर पल तेरी याद आती थी… सीने से …

Read More »

जय माता दी – देव कोहली

जय माता दी जय माता दी हे अम्बे बलिहारी लगे सबको तू प्यारी तेरी शेरों की सवारी देखें सब नर नारी हे अम्बे बलिहारी… अष्ट भुजाएं वेष अनोखा खडग तेग है तेरी शोभा तेरे जैसा कोई न होगा माँ अब आँखें खोल जय माता दी जय माता दी जय माता दी बोल हे माता कोहराम मचा है कठिन घड़ी है …

Read More »

जय पार्वती माता – संजीवनी भेलंडे

जय पार्वती माता, मैया जय गौरा माता। ब्रह्म सनातन देवी, शुभ फल की दाता॥ जय… अरिकुल पद्म विनासनि, जय सेवक त्राता। जग जीवन जगदंबा, हरिहर गुण गाता॥ जय… सिंह को वाहन साजे, कुण्डल है साथा। देव वधू जहं गावत, नृत्य करत ता था॥ जय… सतयुग शील सुसुंदर, नाम सति कहलाता। हेमांचल घर जन्मी, सखियन रंगराता॥ जय… शुंभ निशुंभ विदारे, हेमांचल …

Read More »

जय संतोषी माता – दुर्गा जसराज

जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता। अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता॥ जय… सुंदर चीर सुनहरी, मां धारण कीन्हो। हीरा पन्ना दमके, तन श्रृंगार लीन्हो॥ जय… गेरू लाल छटा छवि, बदन कमल सोहे। मंद हँसत करूणामयी, त्रिभुवन जन मोहे॥ जय… स्वर्ण सिंहासन बैठी, चंवर ढुरे प्यारे। धूप, दीप, मधुमेवा, भोग धरें न्यारे॥ जय… गुड़ अरु चना परमप्रिय, तामे …

Read More »

जय मां काली – इन्दीवर

खदगम चक्र गदेशु चाप परिघान शूल बुशुन्दिम शिरः शंख संदा धतिम करे स्त्रिनायानाम सरवांग भूशाप्तन जय मां काली, जय मां काली जान चाहे लेनी पड़े, जान चाहे देनी पड़े बलि हम चढ़ाएगे जय काली, जय काली, नाश दुष्ट का करने वाली… जय मां काली जान चाहे लेनी पड़े, जान चाहे देनी पड़े बलि हम चढ़ाएगे जय काली, जय काली, नाश …

Read More »

मैं जीवन में कुछ न कर सका – हरिवंश राय बच्चन

मैं जीवन में कुछ न कर सका… जग में अँधियारा छाया था, मैं ज्‍वाला लेकर आया था मैंने जलकर दी आयु बिता, पर जगती का तम हर न सका। मैं जीवन में कुछ न कर सका… अपनी ही आग बुझा लेता, तो जी को धैर्य बँधा देता, मधु का सागर लहराता था, लघु प्‍याला भी मैं भर न सका। मैं …

Read More »

जय जय शिव शंकर – आनंद बक्षी

जय जय शिव शंकर काँटा लगे न कंकर जो प्याला तेरे नाम का पिया ओ गिर जाऊँगी, मैं मर जाऊँगी जो तूने मुझे थाम न लिया सो रब दी जय जय शिव शंकर… एक के दो दो के चार हमको तो दिखते हैं ऐसा ही होता है जब दो दिल मिलते हैं सर पे ज़मीं पाँव के नीचे है आसमान, …

Read More »