Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » मोहे तू रंग दे बसंती – प्रसून जोशी

मोहे तू रंग दे बसंती – प्रसून जोशी

थोडी सी धूल मेरी धरती की मेरे वतन की…
थोडीसी खुश्बू बुरे से मस्त पवन की
थोडीसी धोंधने वाली धक-धक धक-धक धक-धक सांसे
जिन मे हो जूनून जूनून वोह बूंदे लाल लहू की
यह सब टू मिला मिला ले फिर रंग टू खिला खिला ले…
और मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे तू रंग दे बसंती
मोहे मोहे तू रंग दे बसंती…
ओह मोहे रंग दे बसंती बसंती रंग दे बसंती…

सपने रंग दे, अपने रंग दे
खुशियां रंग दे, गम भी रंग दे
नस्ले रंग दे, फसले रंग दे
रंग दे धड़कन, रंग दे सरगम
और मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे तू रंग दे बसंती
थोडीसी धूल मेरी धरती की मेरे वतन की…
थोडीसी खुश्बू बुरे से मस्त पवन की
थोडीसी धोंधने वाली धक-धक धक-धक धक-धक सांसे
जिन मे हो जूनून जूनून वोह बूंदे लाल लहू की
यह सब टू मिला मिला ले फिर रंग टू खिला खिला ले…
और मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे तू रंग दे बसंती

धीमी आंच पे टू ज़रा इश्क चढ़ा
थोड़े झरने ला, थोड़ी नदी मिला
थोड़े सागर आ, थोड़ी गागर ला
थोडा छिड़क छिड़क, थोडा हिला हिला
फिर एक रंग तू खिला खिला
मोहे मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे तू रंग दे बसंती

बस्ती रंग दे, हस्ती रंग दे
हंस हंस रंग दे, नस नस रंग दे
बचपन रंग दे, जोबन रंग दे
अब देर न कर सचमुच रंग दे
रंग रेज़ मेरे सब कुछ रंग दे
मोहे मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे तू रंग दे बसंती
थोडीसी धूल मेरी धरती की मेरे वतन की…
थोडीसी खुश्बू बुरे से मस्त पवन की
थोडीसी धोंदने वाली धक-धक धक-धक धक-धक सांसे
जिन मे हो जूनून जूनून वोह बूंदे लाल लहू की
यह सब टू मिला मिला ले फिर रंग टू खिला खिला ले…
मोहे मोहे तू रंग दे बसंती यारा
मोहे मोहे तू रंग दे बसंती…
मोहे रंग दे बसंती बसंती रंग दे बसंती…
रंग दे रंग दे रंग दे बसंती
मोहे रंग दे बसंती बसंती रंग दे बसंती बसंती
मोहे रंग दे बसंती रंग दे बसंती रंग दे बसंती यारा

∼ प्रसून जोशी

चित्रपट : रंग दे बसंती (२००६)
निर्माता : राकेश ओमप्रकाश मेहरा, रोनी स्क्रूवाला
निर्देशक : राकेश ओमप्रकाश मेहरा
लेखक : रेन्ज़िल डी’सिल्वा
गीतकार : प्रसून जोशी, ब्लाज़े
संगीतकार : ए. आर. रहमान
गायक : दलेर मेहँदी, चित्रा
सितारे : आमिर खान, सिद्धार्थ नारायण, शरमन जोशी, सोहा अली खान, वहीदा रेहमान, आर. माधवन, कुणाल कपूर, अतुल कुलकर्णी, ऐलिस पेटन

About Prasoon Joshi

प्रसून जोशी (जन्म: 16 सितम्बर 1968) हिन्दी कवि, लेखक, पटकथा लेखक और भारतीय सिनेमा के गीतकार हैं। वे विज्ञापन जगत की गतिविधियों से भी जुड़े हैं और अन्तर्राष्ट्रीय विज्ञापन कंपनी 'मैकऐन इरिक्सन' में कार्यकारी अध्यक्ष हैं। फ़िल्म ‘तारे ज़मीन पर’ के गाने ‘मां...’ के लिए उन्हें 'राष्ट्रीय पुरस्कार' भी मिल चुका है। प्रसून का जन्म उत्तराखंड के अल्मोड़ा ज़िले के दन्या गाँव में 16 सितम्बर 1968 को हुआ था। उनके पिता का नाम देवेन्द्र कुमार जोशी और माता का नाम सुषमा जोशी है। उनका बचपन एवं उनकी प्रारम्भिक शिक्षा टिहरी, गोपेश्वर, रुद्रप्रयाग, चमोली एवं नरेन्द्रनगर में हुई, जहां उन्होने एम.एससी. और उसके बाद एम.बी.ए. की पढ़ाई की। उनकी तीन पुस्तकें प्रकाशित हुई है। दिल्ली ६’, ‘तारे ज़मीन पर’, ‘रंग दे बसंती’, ‘हम तुम’ और ‘फना’ जैसी फ़िल्मों के लिए कई सुपरहिट गाने लिखे हैं। फ़िल्म ‘लज्जा’, ‘आंखें’, ‘क्योंकि’ में संगीत दिया है। ‘ठण्डा मतलब कोका कोला’ एवं ‘बार्बर शॉप-ए जा बाल कटा ला’ जैसे प्रचलित विज्ञापनों के कारण उन्हे अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता मिली।

Check Also

होली आई होली आई देखो होली आई रे - जावेद अख्तर

होली आई होली आई देखो होली आई रे – जावेद अख्तर

ओ होली आई, होली आई देखो होली आई रे ओ होली आई, होली आई देखो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *