Tag Archives: Kids Poems for Students

मेरी माँ: यांशिका तंवर – मदर्स डे पर हिंदी बाल-कविता

मेरी माँ - यांशिका तंवर Mothers Day Special Hindi Poem

मेरी माँ माँ मेरी है, सबसे प्यारी, अच्छी बात सिखाती है, अपनी धुन में बढ़ते जाना ये हमको सिखलाती है। माँ मेरी है, सबसे प्यारी। अच्छे-अच्छे काम करें हम, देश का ऊँचा नाम करें हम ये हमको बतलाती है। माँ मेरी है, सबसे प्यारी। अपने गुरु का कहना मानों कभी ना उनकी बात टालो गलती अगर तुम से हो जाती …

Read More »

मछली जल की रानी है – जीवन उसका पानी है: नर्सरी राइम

मछली जल की रानी है-Short Hindi Nursery Rhyme

मछली जल की रानी है मछली जल की रानी है जीवन उसका पानी है हाथ लगाओ डर जाएगी बाहर निकालो मर जाएगी सारा पानी पी जाएगी फिर वो स्कूल नही जाएगी टीचर जी के घर जाएगी एक समोसा खा जाएगी फिर वो मोटी हो जाएगी फिर घर जाकर सो जाएगी ~ एनोनिमस

Read More »

The Kiss: Rabindranath Tagore Beautiful Love Poetry

Rabindranath Tagore

Born in 1861 Calcutta, India, the legendary writer and poetic philosopher, Rabindranath Tagore won the Nobel Prize for Literature in 1913. He was the first non-European to receive such an honour. Tagore wrote in Bengali and English, experimenting various genres of literature. Tagore was a poet, novelist, short-story writer, essayist, playwright, educationist, spiritualist, lyricist, composer and singer. With an extraordinary …

Read More »

When And Why: Tagore Poetry for Students And Children

Rabindranath Tagore Jayanti

Rabindranath Tagore (Bengali: রবীন্দ্রনাথ ঠাকুর) sobriquet Gurudev, was a Bengali polymath who reshaped his region’s literature and music. Author of Gitanjali and its “profoundly sensitive, fresh and beautiful verse”, he became the first non-European to win the Nobel Prize in Literature in 1913. In translation his poetry was viewed as spiritual and mercurial; his seemingly mesmeric personality, flowing hair, and …

Read More »

My Role: Inspirational Poem On Builders And Labour

My Role - Inspirational Poem On Builders & Labour

Labour in India refers to employment in the economy of India. In 2012, there were around 487 million workers in India, the second largest after China. Of these over 94 percent work in unincorporated, unorganized enterprises ranging from pushcart vendors to home-based diamond and gem polishing operations. The organised sector includes workers employed by the government, state-owned enterprises and private …

Read More »

स्कूल मैगज़ीन से ली गयी बाल-कविताएँ

अलगाव में लगाव: सुजाता भट्टाचार्या एक थे बापू, एक थे नेताजी ‘सुभाष’ विचारों ने जिनके हलचल मचा दी। एक ने कहा ‘अहिंसा’ परमोधर्म, दूजा बोला स्वराज पाकर लेंगे दम।। एक करता आंदोलन सारी, दूजा बनता फौज भारी। दोनों ने देखा एक ही सपना, पर ढंग था, दोनों का अपना-अपना।। मंजिल एक, रास्ते अलग, ना रुके पहुँचे फलक। बापू बोले तुम …

Read More »

Baisakhi: The New Season – English Poetry on Harvest Festival of Punjab

Baisakhi: The New Season

Stretching, rubbing my eyes, With a wide yawn, I fill my lungs With freshness of meadows. Chitter chatter of the birds Slowly filling the air Coupled with moo moo’s so dear. A perfect natural note Suddenly breaks to The gradual pumping of water Blending perfectly with slow Increasing its pace to the Sweet dancing maidens Accentuating ambience, while Precariously balancing …

Read More »

संस्कृत कविताएं विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

संस्कृत कविताएं विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

मां माँ, माँ त्वम्  संसारस्य अनुपम् उपहार, न त्वया सदृश्य कस्याः स्नेहम्, करुणा-ममतायाः त्वम् मूर्ति, न कोअपि कर्त्तुम् शक्नोति तव क्षतिपूर्ति। तव चरणयोः मम जीवनम् अस्ति, ‘माँ’शब्दस्य महिमा अपार, न माँ सदृश्य कस्याः प्यार, माँ त्वम् संसारस्य अनुपम् उपहार। ~ केसिया कुन्जुमौन, दशवीं-बी, St. Gregorios School, Sector 11, Dwarka, New Delhi – 75 जय वृक्ष! जय वृक्ष श्रूयताम् सर्वे वृक्षपुराणम्, …

Read More »

होली है भई होली है: पूर्णिमा वर्मन जी की होली पर हिंदी कविता

Holi Festival

सच है, नहीं ठिठोली है चेहरों पर रंगोली है देश देश में गाँव गाँव में होली है भई होली है पत्रिकाओं में अखबारों में गली गली में चौबारों में हम मस्तों की टोली है होली है भई होली है कहीं रंग है कहीं भंग है बड़ी उमंग में कहीं चंग है मौसम भी हमजोली है होली है भई होली है …

Read More »

हो हल्ला है होली है: प्रभुदयाल श्रीवास्तव – होली विशेष हिंदी बाल-कविता

होली विशेष हिंदी बाल-कविता: हो हल्ला है होली है

उड़े रंगों के गुब्बारे हैं, घर आ धमके हुरयारे हैं। मस्तानों की टोली है, हो हल्ला है, होली है। मुंह बन्दर सा लाल किसी का, रंगा गुलाबी भाल किसी का। कोयल जैसे काले रंग का, पड़ा दिखाई गाल किसी का। काना फूसी कुछ लोगों में, खाई भांग की गोली है। ढोल ढमाका ढम ढम ढम ढम, नाचे कूदे फूल गया …

Read More »