काम हमारे बड़े–बड़े: प्रेरणादायक बाल-कविता

काम हमारे बड़े–बड़े: प्रेरणादायक बाल-कविता

हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।

आसमान का चाँद हमी ने
थाली बीच उतारा है,
आसमान का सतरंगा वह
बाँका धनुष हमारा है।
आसमान के तारों में वे तीर हमारे गड़े–गड़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।

भरत रूप में हमने ही तो
दांत गिने थे शेरों के,
और राम बन दांत किये थे
खट्‌टे असुर–लुटेरों के।
कृष्ण–कन्हैया बन कर हमने नाग नथा था खड़े–खड़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

बापू ने जब बिगुल बजाया
देश जगा, हम भी जागे,
आजादी के महायुद्ध में
हम सब थे आगे–आगे।
इस झंडे की खातिर हमने कष्ट सहे थे कड़े–कड़े।
हम बच्चे है छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

हर परेड गणतंत्र दिवस की
हम बच्चों से सजती है,
वीर बालकों की झांकी पर
खूब तालियां बजती हैं।
पाते जन–गण–मन का आशिष हाथी पर हम चढ़े–चढ़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

~ चिरंजीत

आपको चिरंजीत जी की यह प्रेरणादायक बाल-कविता “काम हमारे बड़े–बड़े” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Presidents, Prime Ministers, Freedom Fighters & Politicians Facebook Covers

Presidents, Prime Ministers, Freedom Fighters & Politicians Facebook Covers

Presidents, Prime Ministers, Freedom Fighters & Politicians Facebook Covers: India is a country of countless …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *