Digestive System

गर्मियों में पेट का ध्यान Gastrointestinal Disorders

गर्मियों में रखें पेट का ध्यान Gastrointestinal Diseases: भारत में गर्मियों में तापमान बहुत अधिक बढ़ जाता है और गर्मी बढने के साथ पेट से जुड़ी समस्याओं (पाचन तंत्र Digestive System या गैस्ट्रो-इंटेस्टाइनल बीमारियों Gastrointestinal Disorders) जैसे गैस्ट्रेएंट्राइटिस, सीने में जलन, कब्ज, इरीटेबल बोवल सिंड्रोम की संभावना बढ़ जाति है। इसके कई लक्षण हो सकते हैं पेट में मरोड़ पड़ना, डायरिया, उल्टी और पेट फूलना। तापमान बढने के साथ हमारे शरीर की पाचन क्षमता तथा बीमारियों से लड़ने की क्षमता पर बुरा असर पड़ता है इसलिए गर्मियों में स्वस्थ बने रहने के लिए खाने-पीने की अच्छी आदतों को अपनाना बहुत जरूरी है। गर्मियों में अपने पाचन तंत्र की देखभाल कैसे करनी चाहिए, इसके लिए पेश हैं कुछ आसान सुझाव:

हाइड्रेशन पर विशेष ध्यान दें: (Hydration)

गर्मियों के मौसम में पानी और पानी से युक्त पेय पदार्थों जैसे ताजा बने फलों के रस और नारियल पानी का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए। इस मौसम में पसीना ज्यादा आता है, इसलिए शरीर से पानी ज्यादा मात्रा में निकल जाता है। ऐसे में रोजाना 8-10 गिलास पानी पानी जरूरी है। दही और नमक वाली लस्सी गर्मियों में शरीर को ठंडा रखते हैं और लू से भी बचाते हैं।

प्रो-बायोटिक से युक्त खाध्य पदार्थों का सेवन करें: (Pro-biotic Rich Food)

योगहर्ट प्रोबायोटिक का सबसे अच्छा स्त्रोत है। इसमें मौजूद प्रोटीन और बैक्टीरिया भोजन को पचाने में मदद करते हैं। सादी या लेवर्ड योगहर्ट डायरिया में भी आराम देती है।

ज्यादा चीनी से युक्त पेय पदार्थों के सेवन से बचें: (Avoid Excessive Sugar)

ठंडे पेय पदार्थ जैसे कोल्ड कॉफी, एनर्जी ड्रिंक, फलों के पैकेज्ड जूस और सोडा में चीनी की मात्रा बहुत अधिक होती है, जो गर्मियों के लिए अनुकूल नहीं है।

दूध से युक्त पदार्थों का सेवन कम करें: (Reduce Milk Substances)

ठंडा दूध हालांकि कुछ समय के लिए राहत देता है, लेकिन पचने के बाद शरीर को गर्मी देता है। ऐसा ही डेयरी उत्पादों जैसे मक्खन, पनीर और आईसक्रीम के मामले में भी होता है। इन डेयरी उत्पादों से पैदा होने वाली गर्मी पेट की समस्याओं का कारण बन सकती है।

मसालेदार, तले और एसिडिक भोजन का सेवन न करें: (Avoid Spicy, Fried and Acidic Food)

तले और भारी स्नैक्स का सेवन न करें, क्योंकि इन्हें पचने में लम्बा समय लगता है और ये सीने में जलन या एसिडिटी का कारण बन सकते हैं। इसके बजाय ताजा फल जैसे सेब, नाशपाती, तरबूज, खीरा आदि का सेवन भरपूर मात्रा में करें। थोड़ी-थोड़ी मात्रा में बार-बार खाएं, दो बार खाने के बीच कुछ अंतराल रखें। इससे खाना आसानी से पचता है और शरीर में हाइड्रेशन की सही मात्रा बनी रहती है। स्नैक्स के रूप में उन चीजों का सेवन करें जो प्रोटीन, आयरन, फाइबर, कैल्शियम और विटामिन के अच्छे स्रोत हों और आपकी आंखो एवं त्वचा को धूप से होने वाले नुक्सान से बचाएं।

ऐसे पदार्थों का सेवन न करें जो पेट को नुकसान दें:

कॉफी, अल्कोहल और कार्बोनेटेड पेय पदार्थों का सेवन न करें।

नियमित रूप से व्यायाम करें:

योगा, सैर, ब्रिस्क वॉक और रनिंग जैसे व्यायाम सभी आयु वर्गों और लिंगों के लिए फायदेमंद हैं। व्यायाम करने से शरीर में पाचन प्रक्रिया में मदद मिलती है और पेट दर्द में भी आराम मिलता है।

उपरोक्त उपायों द्वारा आप गर्मियों में अपने आप को पेट की समस्याओं से मुक्त रख सकते हैं। हालांकि आपको पाचन में परेशानी हो या गंभीर लक्षण दिखाई दें तो डॉक्टर की सलाह लेनी चाहिए।

~ डा. स्मृति रंजन मिश्रा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *