Tag Archives: Devotional folktales for School Children

Guru Arjan Dev: The Conspiracy Begins

Guru Arjan Dev - The Conspiracy Begins

Guru Arjan Dev: The Conspiracy Begins – Before long, Guru Arjan came to hear of something that really troubled him. He learned that his brother, Prithi Chand, was composing his own hymns and passing them off as compositions of Guru Nanak and other Sikh Gurus. Guru Arjan feared that if this continued, the Sikh religion would be undone and grossly …

Read More »

कबीर की सीख पर रोचक बाल-कथा: कबीर दास का संयम

कबीर की सीख पर रोचक बाल-कथा: कबीर दास का संयम

एक नगर में एक जुलाहा (Weaver) रहता था। वह स्वभाव से अत्यंत शांत, नम्र तथा वफादार था। उसे क्रोध तो कभी आता ही नहीं था। एक बार कुछ लड़कों को शरारत सूझी। वे सब उस जुलाहे के पास यह सोचकर पहुंचे कि देखें इसे गुस्सा कैसे नहीं आता? उन में एक लड़का धनवान माता-पिता का पुत्र था। वहां पहुंचकर वह …

Read More »

Sant Kabir’s Family: Story about Kabir Das

Sant Kabir

Sant Kabir was born in 1398 AD in Banaras city (also known as Varanasi – city in Uttar Pradesh). His father Neeru was a Muslim and weaver by profession. Banaras being a Hindu place of pilgrimage was always thronged by Sadhus. Those Sadhus had a profound effect on the life of Kabir. While playing with companions in childhood, he would …

Read More »

बुद्ध के प्रवचन: भगवान बुद्ध से जुड़ी कथाएँ

बुद्ध के प्रवचन

एक बार बुद्ध एक गांव में अपने किसान भक्त के यहां गए। शाम को किसान ने उनके प्रवचन का आयोजन किया। बुद्ध का प्रवचन सुनने के लिए गांव के सभी लोग उपस्थित थे, लेकिन वह भक्त ही कहीं दिखाई नहीं दे रहा था। गांव के लोगों में कानाफूसी होने लगी कि कैसा भक्त है कि प्रवचन का आयोजन करके स्वयं …

Read More »

सिद्धार्थ कुमार: भगवान बुद्ध के बचपन का किस्सा

सिद्धार्थ कुमार

बुद्ध भगवान का बचपन का नाम सिद्धार्थ कुमार है। महाराज शुद्धोदन ने उनके लिए एक अलग बहुत बड़ा बगीचा लगवा दिया था। उसी बगीचे में वे एक दिन टहल रहे थे। इतने में आकाश से हंस पक्षी चीखता हुआ गिर पड़ा। राजकुमार सिद्धार्थ ने दौड़कर उस पक्षी को लिया। किसी ने हंस को बाण मारा था। वह बाण अब भी …

Read More »

हनुमान और सुरसा का शिक्षाप्रद प्रंसग

हनुमान जी भगवान राम के परम् भक्त थे। जब लंका का राजा रावण सीता को हर कर ले गया तो राम और लक्ष्मण वन वन सीता को खोजने लगे। एक दिन वे घूमते हुए किष्कंधा पहुचे। वहाँ उनकी उनकी भेंट हनुमान से हुई। हनुमान सुग्रीव के मंत्री थे। उन्होंने सुग्रीव के साथ राम लक्ष्मण की मित्रता कराई। सुग्रीव ने सीता …

Read More »