Tag Archives: Courage folktales for Students

House of Lac: Classic Tale From Mahabharata

House of Lac: Classic Tale From Mahabharata

The story of the ‘Mahabharata’ is about the Pandavas and the Kauravas. House of Lac: Classic Tale From Mahabharata – The five Pandava brothers, Dharmaputra, Bhima, Arjuna, Nakula and Sahadeva, were the sons of Pandu, the King of Hastinapura. The Kauravas were the one hundred sons of Dhritarashtra, Pandu’s elder brother. Dhritarashtra was blind. The people did not want a …

Read More »

हनुमान और सुरसा का शिक्षाप्रद प्रंसग

हनुमान और सुरसा का शिक्षाप्रद प्रंसग: हनुमान जी भगवान राम के परम् भक्त थे। जब लंका का राजा रावण सीता को हर कर ले गया तो राम और लक्ष्मण वन वन सीता को खोजने लगे। एक दिन वे घूमते हुए किष्कंधा पहुचे। वहाँ उनकी उनकी भेंट हनुमान से हुई। हनुमान सुग्रीव के मंत्री थे। उन्होंने सुग्रीव के साथ राम लक्ष्मण …

Read More »

रूपनगढ़ की राजकुमारी: वीर राजपूत नारी की लोक कथा

रूपनगढ़ की राजकुमारी - वीर राजपूत नारी की लोक कथा

रूपनगढ़ की राजकुमारी: वीर राजपूत नारी की लोक कथा – ‘अपनी कन्या को शाही बेगम बनने के लिये तुरंत दिल्ली भेज दो!’ औरंगजेब के इस संदेश के साथ दिल्ली से एक सेना भी रूपनगढ़ के राजा विक्रम सोलंकी के पास पहुँची। अनेक राजपूत नरेशों ने अपनी कन्याएँ दिल्ली को भेज दी थीं। विरोध करने में केवल सर्वनाश ही था। कोई …

Read More »

Bakasura: Supernatural man-eater in Hindu epic Mahabharata

Bakasura: Supernatural man-eater in Hindu epic Mahabharata

Our King tried to fight the giant with a big army. But Bakasura was very strong. He defeated the King and his army… A rakshasa, “man-eater” in epic Mahabharata Bakasura: A Rakshasa – The Pandavas and their mother, Kunti, wandered about the country in disguise. After some time they reached a city called Ekachakra. There they stayed in a brahmin’s house. …

Read More »

छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रेरक प्रसंग

छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रेरक प्रसंग

छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रेरक प्रसंग: एक बार छत्रपति शिवाजी महाराज जंगल में शिकार करने जा रहे थे। अभी वे कुछ दूर ही आगे बढे थे कि एक पत्थर आकर उनके सर पे लगा। शिवाजी क्रोधित हो उठे और इधर-उधर देखने लगे, पर उन्हें कोई भी दिखाई नहीं दे रहा था, तभी पेड़ों के पीछे से एक बुढ़िया सामने आई …

Read More »