उपवन – गोविन्द भारद्वाज

Upvanफूल खिलें हैं उपवन में,
रंग – बिरंगे मधुबन में।

छवि फूलों की न्यारी है,
महकी क्यारी – क्यारी है।

भँवरे – तितली डोले हैं,
चुपके – चुपके बोले हैं।

मखमल जैसी दूब लगे,
प्यारी लेटी धुप लगे।

महक बसी है धड़कन में,
फूल खिलें हैं उपवन में।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

World Organ Donation Day Information

World Organ Donation Day Information

World Organ Donation Day in India is celebrated on 13th of August every year by …