माँ का रूप - शाहीन अवस्थी Mother's Day Special Hindi Poem

माँ का रूप: माँ पर विद्यार्थियों और बच्चों के लिए हिंदी कविता

हर एक के जीवन में माँ एक अनमोल इंसान के रुप में होती है जिसके बारे शब्दों से बयाँ नहीं किया जा सकता है।ऐसा कहा जाता है कि भगवान हर किसी के साथ नहीं रह सकता इसलिए उसने माँ को बनाया हालाँकि माँ के साथ कुछ महत्वपूर्ण क्षणोँ को वर्णित किया जा सकता है। एक माँ हमारे जीवन की हर छोटी बड़ी जरुरतो का ध्यान रखने वाली और खूबसूरत इंसान होती है। वो बिना किसी अपने व्यक्तिगत लाभ के हमारी हर जरुरत के लिये हर पल ध्यान रखती है।

भगवान का दूसरा रूप है माँ,
उनके लिए दे देंगे जान,
हमको मिलता जीवन उनसे,
कदमो में है स्वर्ग बसा,

संस्कार वह हमे सिखलाती,
अच्छा बुरा हमे बतलाती,
हमारी गलतियों को सुधारती,
प्यार वह हम पर बरसाती,

तबियत अगर हो जाये ख़राब,
रात रात भर जागते रहना,
माँ बिन जीवन है अधूरा,
खाली खाली सुना सुना,

खाना पहले हमे खिलाती,
बाद में वह खुद खाती,
हमारी ख़ुशी में खुश हो जाती,
दुःख में हमारे आंसू बहाती,

कितने खुसनसीब है हम,
पास हमारे है माँ,
होते बदनसीब वह कितने,
जिनके पास ना होती माँ।

शाहीन अवस्थी

आपको शाहीन अवस्थी की यह कविता “माँ का रूप” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Raksha Bandhan Special English Poem: My Sister, My Best Friend

My Sister, My Best Friend: Rakhi Special Poem

Raksha Bandhan, also Rakshabandhan, or simply Rakhi, is an Indian and Nepalese festival centred around …