चाँद – गोविन्द भारद्वाज

Chand Poemलहर – लहर लहराया चाँद,
आसमान पर आया चाँद।

सजी सितारों की बारात,
मन ही मन मुस्काया चाँद।

नही धरती शबनम में ,
और देख इतराया चाँद।

सुनकर नगमा चांदनी का,
आज फिर गुनगुनाया चाँद।

इस जगमगाती दुनिया में,
परी लोक से आया चाँद।

∼ गोविन्द भारद्वाज

Check Also

2022 Commonwealth Games: Birmingham Medal Table

2022 Commonwealth Games: Birmingham Medal Table

Event Name: 2022 Commonwealth Games Host city: Birmingham, England Motto: Sport is the beginning of all Nations …