Hindi Shayari

Hindi Shayari

मोहब्बत

तुझे फुर्सत ही न मिली पढ़ने की और हम
तेरे शहर मे बिकते रहे किताबों की तरह

———————————————–

हमारे बगैर भी आबाद है उनकी महफ़िलें,
और हम समझते रहे कि उनकी रौनकें हमसे है

———————————————–

चराग-ए-ज़िंदगी होती है ये मोहब्बत..
रोशन तो करती है… मगर जला जला कर

———————————————–

ज़र्रा ज़र्रा जल जाने को हाज़िर हूँ,
बस शर्त है कि वो आँच तुम्हारी हो

———————————————–

झुठी बात है कि आत्मा नही मरती
मैने देखा है कि कुछ लोगो के शरीर जिंदा होते हैँ
और आत्मा मर चुकी होती है

———————————————–

मज़हब, दौलत, ज़ात, घराना, सरहद, ग़ैरत, खुद्दारी
एक मुहब्बत की चादर को, कितने चूहे कुतर गए

———————————————–

दुआ कौन सी थी हमे याद नही बस इतना याद है,
दो हथेलियाँ जुड़ी थी एक तेरी थी एक मेरी थी

Check Also

Jawahar Lal Nehru Death Anniversary - May 27

Jawahar Lal Nehru Death Anniversary Information

This year will mark death anniversary of country’s first Prime Minister Jawahar Lal Nehru on …

2 comments

  1. beautiful shayari
    lovely colection
    thank you for sharing

  2. Excellent blog! Do you have any recommendations for aspiring writers?