Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » तुम्हारे पत्र – अनिल वर्मा

तुम्हारे पत्र – अनिल वर्मा

प्राण जैसे भाव
प्यासे होंठ–से अक्षर
तुम्हारे पत्र

बीतते, बीते पलों की
इन्द्रधनुषी याद का
संगीतमय जादू

या सहज अनुराग के
आनंद की कुछ गुनगुनाती
धूप की खुशबू

रच गये
बेकल हृदय के गाँव में
पायल बंधे कुछ पाँव
किस अधिकार से अक्सर
तुम्हारे पत्र

प्राण जैसे भाव
प्यासे होंठ–से अक्षर
तुम्हारे पत्र

∼ अनिल वर्मा

About 4to40 Team

Check Also

A Little Girl Needs Daddy - Inspiring Father's Day Poem

A Little Girl Needs Daddy – Inspiring Father’s Day Poem

A Little Girl Needs Daddy For many, many things: Like holding her high off the …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *