Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » छाया मत छूना: गिरिजा कुमार माथुर
छाया मत छूना: गिरिजा कुमार माथुर

छाया मत छूना: गिरिजा कुमार माथुर

छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।
जीवन में हैं सुरंग सुधियां सुहावनी
छवियों की चित्र गंध फैली मनभावनी:
तन सुगंध शेष रही बीत गई यामिनी‚
कुंतल के फूलों की याद बनी चांदनी।
भूली सी एक छुअन बनता हर जीवित क्षण –
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

यश है ना वैभव है मान है न सरमाया;
जितना भी दौड़ा तू उतना ही भरमाया।
प्रभुता का शरण बिम्ब केवल मृगतृष्णा है‚
हर चंद्रिका में छिपी एक रात कृष्णा है
जो है यथार्थ कठिन उसका तू कर पूजन –
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

दुविधा हत साहस है दिखता है पंथ नहीं
देही सुख हो पर मन के दुख का कुछ अंत नहीं।
दुख है न चांद खिला शरद रात आने पर‚
क्या हुआ जो खिला फूल रस वसंत जाने पर?
जो न मिला भूल उसे कर तू भविष्य वरण‚
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

∼ गिरिजा कुमार माथुर

आपको गिरिजा कुमार माथुर जी की यह कविता “छाया मत छूना” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

How to draw bird

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children

How To Draw Bird: Drawing Lessons for Students and Children – Step – by – …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *