Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Agyeya Hindi Poem about Poor People & Frustration अनुभव परिपक्व
Anubhav Paripakva - Sachchidananda Vatsyayan Agyeya

Agyeya Hindi Poem about Poor People & Frustration अनुभव परिपक्व

माँ हम नहीं मानते –
अगली दीवाली पर मेले से
हम वह गाने वाला टीन का लट्टू
लेंगे ही लेंगे –
नहीं, हम नहीं जानते –
हम कुछ नहीं सुनेंगे।

– कल गुड़ियों का मेला है
मुझे एक दो पैसे वाली
काग़ज़ की फिरकी तो ले देना
अच्छा मैं लट्टू नहीं मांगता –
तुम बस दो पैसे दे देना।

– अच्छा, माँ मुझे खाली मिट्टी दे दो –
मैं कुछ नहीं मांगूंगा:
मेले जाने का हठ नहीं ठानूंगा
जो कहोगी मानूंगा।

सच्‍चिदानन्‍द हीरानन्‍द वात्‍स्‍यायन ‘अज्ञेय’

आपको “अज्ञेय” जी की यह कविता “अनुभव परिपक्व” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Parenting – Nurturing Success: Build Success into the Relationship

Parenting – Nurturing Success: Build Success into the Relationship

A sense of success grows slowly in children, since they are prone to feeling inadequate …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *