Home » Tag Archives: Gods And Goddess Poems for Children

Tag Archives: Gods And Goddess Poems for Children

आओ तुम्हे बताऊ के माँ क्या है: कैफ़ी आज़मी

आओ तुम्हें बताऊ के माँ क्या हैं - कैफ़ी आज़मी Hindi Film Song on Mother

आओ तुम्हे बताऊ के माँ क्या है: कैफ़ी आज़मी आओ आओ तुम्हे बताऊ के माँ क्या है माँ एक ज्योति जीवन है बाकी सब अन्धियारा है माँ एक ज्योति जीवन है बाकी सब अन्धियारा है साच्ची उसके दुनिया में भगवान ने प्यार उतारा है माँ का दूजा नाम है प्यार मेरे साथी मेरे यार आओ आओ तुम्हे बताऊ के माँ …

Read More »

Joyous Hanukkah: Hanukkah Festival Kids Poem

Joyous Hanukkah - Eva Grant

At last! At last! Hanukkah is here! The whole house is bursting with holiday cheer. Pancakes are sizzling as hard as they can, Browning delectably crisp in the pan. The dreidels can scarcely wait to be spun; Presents are hidden for Hanukkah fun; And there, on the table, polished and bright, The shining menorah gleams through the night, Like the …

Read More »

Happy Hanukkah: A Good Kids Hanukkah Poem

Hanukkah Poems

Outside, snow is slowly, softly Falling through the wintry night. In the house, the brass menorah Sparkles with the candlelight. Children in a circle listen To the wondrous stories told, Of the daring Maccabeans And the miracles of old. In the kitchen, pancakes sizzle, Turning brown, they’ll soon be done. Gifts are waiting to be opened, Happy Hanukkah’s begun. ∼ Eva …

Read More »

Love Never Dies: Guru Nanak Devotional Poetry

Guru Nanak Jayanti Recipes: Gurpurab Recipes

‘Guru Nanak Dev Ji’ was born on 15 April 1469 at Rāi Bhoi Kī Talvaṇḍī, now called Nankana Sahib, near Lahore, Pakistan. He was the son of Kalyan Chand Das Bedi and Mata Tripta. His father was a patwari (accountant) for crop revenue in the village of Talwandi. Guru Nanak Dev was married to Mata Sulakkhani. Guru Nanak Dev Ji …

Read More »

नानक दुखिया सब संसार: जैमिनी हरियाणवी की हास्य कविता

नानक दुखिया सब संसार: जैमिनी हरियाणवी की हास्य कविता

Gautam Buddha said that this world is a world of sorrows. Here Guru Nanak is saying the same. Except for few illusory moments of mirth, rest of the life is a struggle and frustration. नानक दुखिया सब संसार बूढ़ा बाप पड़ा बीमार माँ की बेटे से तकरार इस का रुठ गया है यार नानक दुखिया सब संसार गुंडा लेकर हुआ …

Read More »

दिवाली रोज़ मनाएं: दीपावली पर छोटी हिन्दी कविता

दिवाली रोज़ मनाएं - संदीप फाफरिया ‘सृजन’

भारत में यह त्योहार पांच दिनों तक मनाया जाता है। धनतेरस से भाई दूज तक यह त्योहार चलता है। धनतेरस के दिन व्यापार अपने बहीखाते नए बनाते हैं। अगले दिन नरक चौदस के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान करना अच्‍छा माना जाता है। अमावस्या के दिन लक्ष्मीजी की पूजा की जाती है। खील-बताशे का प्रसाद चढ़ाया जाता है। नए कपड़े …

Read More »

Durga Puja of Bengalis: Sonnet Mondal

Durga Puja of the Bengalis - Sonnet Mondal

Durga Puja is one of the most famous festivals celebrated in West Bengal state of India and particularly in Kolkata, in honour of Goddess Durga during the period of Navratri. It is celebrated for 10 days, however starting from the sixth day until the ninth day, the Pandals with grand idols of Goddess Durga are open for visitors. The tenth …

Read More »

मंगल दीप दिवाली: दिवाली पर हिंदी कविता

Motivational Hindi Poem about Diwali Festival मंगल दीप दिवाली

वह मंगल दीप दिवाली थी, दीपों से जगमग थाली थी। कोई दिये जला कर तोड़ गया, आशा की किरन को रोक गया॥ इस बार न ये हो पाएगा, अँधियारा ना टिक पाएगा। कर ले कोशिश कोई लाख मगर, कोई दिया न बुझने पाएगा॥ जब रात के बारह बजते हैं, सब लक्ष्मी पूजा करते हैं। रात की कालिमा के लिए, दीपों …

Read More »

दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे: बाल-कविता

Diwali Festival Hindi Bal Kavita दीप जलाओ दीप जलाओ आज दिवाली रे

दिवाली भारतीयों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण त्योहार है और हमारे लिए लगभग कोई भी त्योहार आतिशबाजी के बिना पूरा नही माना जाता है। लोग पटाखों और आतिशबाजी को लेकर इतने उत्सुक होते हैं कि वह दिवाली के एक दिन पहले से ही पटाखे फोड़ना शुरु कर देते हैं और कई बार तो लोग हफ्तों पहले ही पटाखे फोड़ना …

Read More »

Sonnet: Diwali – Diwali Festival English Poem

Sonnet: Diwali - Dr John Celes

Diwali is the most significant and famous festival of the India which is being celebrated every year all over the country as well as outside the country. People celebrate it very enthusiastically to commemorate the returning of Lord Rama to his kingdom, Ayodhya after a long period of time of 14 years of exile after defeating the Ravana. On the …

Read More »