Baal Kavita in Hindi गड़बड़ झाला - देवेंन्द्र कुमार

Baal Kavita in Hindi गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार

गड़बड़ झाला – देवेंन्द्र कुमार

आसमान को हरा बना दें
धरती नीली, पेड़ बैंगनी
गाड़ी ऊपर, नीचे लाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

कोयल के सुर मेंढक बोले
उल्लू दिन में आँखों खोले
सागर मीठा, चंदा काला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

दादा माँगें दाँत हमारे
रसगुल्ले हों खूब करारे
चाबी अंदर, बाहर ताला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

चिड़िया तैरे, मछली चलती
आग वहाँ पानी में जलती
बरफी में है गरम मसाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

दूध गिरे बादल से भाई
तालाबों में पड़ी मलाई
मक्खी बुनती मकड़ी जाला
फिर क्या होगा – गड़बड़ झाला!

~ देवेंन्द्र कुमार

आपको देवेंन्द्र कुमार जी की यह कविता “गड़बड़ झाला” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

Rashifal

साप्ताहिक राशिफल नवंबर 2020

साप्ताहिक राशिफल 26 अक्टूबर – 01 नवंबर, 2020 नवंबर 2020 साप्ताहिक राशिफल: राशियाँ राशिचक्र के उन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *