Tag Archives: Old Classic poems for Recitation

जलियाँवाला बाग में बसंत: सुभद्रा कुमारी चौहान कविता

जलियाँवाला बाग में बसंत - सुभद्रा कुमारी चौहान

जलियाँवाला बाग में बसंत: सुभद्रा कुमारी चौहान – Jallianwala Bagh (जलियाँवाला बाग) is a public garden in Amritsar, and houses a memorial of national importance, established in 1951 by the Government of India, to commemorate the massacre of peaceful celebrators including unarmed women and children by British occupying forces, on the occasion of the Punjabi New Year (Baisakhi) on 13 …

Read More »

उर्वशी (नर प्रेम – नारी प्रेम): रामधारी सिंह दिनकर

उर्वशी (नर प्रेम - नारी प्रेम): रामधारी सिंह दिनकर

रामधारी सिंह दिनकर साहित्य के वह सशक्त हस्ताक्षर हैं जिनकी कलम में दिनकर यानी सूर्य के समान चमक थी। उनकी कविताएं सिर्फ़ उनके समय का सूरज नहीं हैं बल्कि उसकी रौशनी से पीढ़ियां प्रकाशमान होती हैं। रामधारी सिंह ‘दिनकर’ (जन्म: 23 सितंबर, 1908, बिहार; मृत्यु: 24 अप्रैल, 1974, तमिलनाडु) हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक, कवि एवं निबंधकार थे। ‘राष्ट्रकवि दिनकर’ आधुनिक …

Read More »

Thanksgiving: Harvest Festival Poem for Kids

Harvest Festival Poem for Kids: Thanksgiving

Thanksgiving is a holiday in the United States and Canada when people give thanks. In the United States, it is on the fourth Thursday of November. In Canada it is on the second Monday of October. In 1863, Abraham Lincoln said the last Thursday of November would be a national Day of Thanksgiving for the United States. American immigrants brought …

Read More »

झाँसी की रानी: सुभद्रा कुमारी चौहान की वीर रस कविता

Subhadra Kumari Chauhan Veer Ras Hindi Poem झाँसी की रानी

झाँसी की रानी: सुभद्रा कुमारी चौहान की वीर रस कविता – Subhadra Kumari Chauhan has authored a number of popular works in Hindi poetry. Her most famous composition is Jhansi Ki Rani, an emotionally charged poem describing the life of Rani Lakshmi Bai. The poem is one of the most recited and sung poems in Hindi literature. This and her …

Read More »

गणपति अपने गाँव चले: आनंद बक्षी

Ganapati Visarjan Bollywood Song गणपति अपने गाँव चले - आनंद बक्षी

गणपति अपने गाँव चले: The cult movie of 1990, Agneepath, starring the legendary actor Amitabh Bachchan is still etched in the minds of his fans. Agneepath Amitabh Bachchan movie showcases the rise of Vijay Dinanath Chauhan played by Amitabh Bachchan in the world of crime in Bombay. Vijay, is the son of Master Dinanath Chauhan (Alok Nath) who is a …

Read More »

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन: रविंदर रावल

Ganesh Chaturthi Bollywood Song देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन

Hum Se Badkar Kaun is a 1981 Hindi-language Indian film directed by Deepak Bahry, starring Mithun Chakraborty, Vijayendra Ghatge, Ranjeeta, Amjad Khan, Danny Denzongpa, Kajal Kiran and Ranjeet. Four young boys tragically separated from their parents and each other grow up to become four different men with divergent values and conflicting methods. Fate eventually sets their paths for a head …

Read More »

गणपती बाप्पा मोरया: गणपति विसर्जन पर फ़िल्मी भजन

गणपती बाप्पा मोरया: गणपति विसर्जन पर फ़िल्मी भजन

गणपती बाप्पा मोरया भजन: हरिहरन गणपती बाप्पा मोरया भजन, पुढच्या वर्षी लवकर या (गणपती बाप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ गणपती बाप्पा मोरया, अगले बरस तू जल्दी आ) मेरे मन मंदिर में तुम भगवान रहे मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे मेरे घर में कितने दिन मेहमान रहे हो… मेरे दुःख से तुम कैसे अनजान रहे (गणपती बाप्पा …

Read More »

ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा

ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा - माय फ्रेंड गणेशा

ओ माय फ्रेंड गणेशा: फ़िल्मी गीत ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा धरती के ऊपर दरिया, दरिया के ऊपर अम्बर – 2 अम्बर के ऊपर चंदा, चंदा के ऊपर तारे – 2 तारों में तारा ध्रुव तारा, देवों में तू देव हमारा सबसे ऊपर तू ही हमेशा – 2 ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा – …

Read More »

ठुकरा दो या प्यार करो: सुभद्रा कुमारी चौहान

ठुकरा दो या प्यार करो: सुभद्रा कुमारी चौहान

देव! तुम्हारे कई उपासक कई ढंग से आते हैं सेवा में बहुमूल्य भेंट वे कई रंग की लाते हैं। धूमधाम से साज-बाज से वे मंदिर में आते हैं मुक्तामणि बहुमुल्य वस्तुऐं लाकर तुम्हें चढ़ाते हैं। ठुकरा दो या प्यार करो: सुभद्रा कुमारी चौहान मैं ही हूँ गरीबिनी ऐसी जो कुछ साथ नहीं लाई फिर भी साहस कर मंदिर में पूजा …

Read More »

जयद्रथ वध: राष्ट्र कवि मैथिली शरण गुप्त

जयद्रथ वध: राष्ट्र कवि मैथिली शरण गुप्त

जयद्रथ वध: मैथिली शरण गुप्त जी के काव्य में मानव-जीवन की प्रायः सभी अवस्थाओं एवं परिस्थितियों का वर्णन हुआ है। अतः इनकी रचनाओं में सभी रसों के उदाहरण मिलते हैं। प्रबन्ध काव्य लिखने में गुप्त जी को सर्वाधिक सफलता प्राप्त हुई है। मैथिली शरण गुप्त जी की प्रसिद्ध काव्य-रचनाएँ – साकेत, यशोधरा, द्वापर, सिद्धराज, पंचवटी, जयद्रथ-वध, भारत-भारती, आदि हैं। भारत …

Read More »