Tag Archives: Old Classic Hindi Songs

गणपति अपने गाँव चले: आनंद बक्षी

Ganapati Visarjan Bollywood Song गणपति अपने गाँव चले - आनंद बक्षी

गणपति अपने गाँव चले: The cult movie of 1990, Agneepath, starring the legendary actor Amitabh Bachchan is still etched in the minds of his fans. Agneepath Amitabh Bachchan movie showcases the rise of Vijay Dinanath Chauhan played by Amitabh Bachchan in the world of crime in Bombay. Vijay, is the son of Master Dinanath Chauhan (Alok Nath) who is a …

Read More »

देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन: रविंदर रावल

Ganesh Chaturthi Bollywood Song देवा हो देवा गणपति देवा तुमसे बढ़कर कौन

Hum Se Badkar Kaun is a 1981 Hindi-language Indian film directed by Deepak Bahry, starring Mithun Chakraborty, Vijayendra Ghatge, Ranjeeta, Amjad Khan, Danny Denzongpa, Kajal Kiran and Ranjeet. Four young boys tragically separated from their parents and each other grow up to become four different men with divergent values and conflicting methods. Fate eventually sets their paths for a head …

Read More »

ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा

ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा - माय फ्रेंड गणेशा

ओ माय फ्रेंड गणेशा: फ़िल्मी गीत ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा धरती के ऊपर दरिया, दरिया के ऊपर अम्बर – 2 अम्बर के ऊपर चंदा, चंदा के ऊपर तारे – 2 तारों में तारा ध्रुव तारा, देवों में तू देव हमारा सबसे ऊपर तू ही हमेशा – 2 ओ माय फ्रेंड गणेशा, तू रहना साथ हमेशा – …

Read More »

ऐ मेरे वतन के लोगों: कवि प्रदीप का लोकप्रिय देशभक्ति गीत

ऐ मेरे वतन के लोगों - कवि प्रदीप

यूं तो भारतीय सिनेमा जगत में वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिये अब तक न जाने कितने गीतों की रचना हुयी है लेकिन ‘ऐ मेरे वतन के लोगों, जरा आंखो मे भर लो पानी, जो शहीद हुये है उनकी जरा याद करो कुर्बानी।’ जैसे देश प्रेम की अछ्वुत भावना से ओत प्रोत रामचन्द्र द्विवेदी उर्फ कवि प्रदीप के इस गीत …

Read More »

भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना: शैलेन्द्र

भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना: शैलेन्द्र

भैया मेरे राखी के बंधन को निभाना: शैलेन्द्र – Chhoti Bahen is a 1959 Indian Hindi film that stars Nanda in the title role, Balraj Sahni and Rehman. The movie was a remake of the 1952 Tamil movie “En Thangai” which was later remade in Kannada in 1967 as “Onde Balliya Hoogalu” and in Telugu in 1967 as “Aada Paduchu”. …

Read More »

कर चले हम फ़िदा जानो तन साथियो: कैफी आज़मी

देश प्रेम और देश के लिए कुछ कर गुज़रने का जज़्बा हर नागरिक में होता है। हिंदी सिनेमा ने भी इस मोहब्बत और जज़्बे को बख़ूबी अभिव्यक्त किया है। आज भी देशभक्ति के कई ऐसे गाने हैं जो लोकप्रिय हैं। बदलते वक़्त के साथ इनकी लोकप्रियता में इज़ाफ़ा ही हुआ है। कुछ ऐसे बेशक़ीमती गीत  है जो हर नागरिक को …

Read More »

आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की: कवि प्रदीप

आओ बच्चों तुम्हें दिखाये झाँकी हिंदुस्तान की - कवि प्रदीप

देश प्रेम और देश के लिए कुछ कर गुज़रने का जज़्बा हर नागरिक में होता है। हिंदी सिनेमा ने भी इस मोहब्बत और जज़्बे को बख़ूबी अभिव्यक्त किया है। आज भी देशभक्ति के कई ऐसे गाने हैं जो लोकप्रिय हैं। बदलते वक़्त के साथ इनकी लोकप्रियता में इज़ाफ़ा ही हुआ है। कुछ ऐसे बेशक़ीमती गीत हैं जो हर नागरिक को वतन के प्रति …

Read More »

हम लाये हैं तूफ़ान से किश्ती निकाल के: कवि प्रदीप

Kavi Pradeep Inspirational Patriotic Song हम लाये हैं तूफ़ान से किश्ती निकाल के

After decades of freedom struggle and innumerable sacrifices, the country finally attained freedom in 1947. In this poem the old guards pass the baton to younger generation and instruct them to carry on with great care and fortitude so that the freedom won by great efforts of several generations is sustained and the country moves on the path to progress. …

Read More »

मेरा रंग दे बसंती चोला: प्रेम धवन का देश-भक्ति गीत

मेरा रंग दे बसंती चोला - प्रेम धवन

‘रंग दे बसंती चोला’ अत्यंत लोकप्रिय देश-भक्ति गीत है। यह गीत किसने रचा? इसके बारे में बहुत से लोगों की जिज्ञासा है और वे समय-समय पर यह प्रश्न पूछते रहते हैं। ‘यह गीत किसने लिखा?’ इसका उत्तर जानने के लिए हमें इसका इतिहास खंगालना होगा। इस गीत के दो संस्करण है। जिस गीत से अधिकतर लोग परिचित हैं वह गीत 1965 की …

Read More »

तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ: प्रेम धवन

तू ना रोना, के तू है भगत सिंह की माँ - प्रेम धवन

भारत के वीर पुत्र भगत सिंह – जिसने अपना पूरा जीवन देश को समर्पित कर दिया। 27 सितम्बर 1907 को जिसका जन्म हुआ और मात्र 24 वर्ष की कोमल आयु में जिसे केवल इसलिए फांसी पे चढ़ा दिया गया क्युकि वो भारत माँ से बहुत प्रेम करता था, किसी को प्रेम की इतनी बड़ी सज़ा? वो माँ का क्या हाल …

Read More »