Tag Archives: Indian Festivals Significance & Importance

Bada Osha: Odia Hindu Fasting Festival

Bada Osha: Odisha Fasting Festival

Dhabaleswar, Temple of Lord Mahadeva in the state of Odisha (Orissa) is an extremely famous and known among the natives of the state. The festival of Bada Osha is essentially a “Festival of Fasting” celebrated in the month of Kartik at the Dhabaleshwar Temple. Bada Osha Festival Date: 2018: 21 November, 2018 (Wednesday) As a custom this fast is mostly …

Read More »

Rishi Panchami Information For Students, Kids

Rishi Panchami Images

Rishi Panchami is celebrated with great joy and festivity in different parts of India as well as in Nepal. Different places have distinct significance for the festival. Mainly, the festival is celebrated in honor of Sapta Rishis. According to Hindu calendar, Rishi Panchami is celebrated on the fifth day of the Shukla Paksha (Waxing Phase of moon) in the Hindu …

Read More »

सफलता की कुंजी: शिक्षक और शिक्षक दिवस की सही अर्थ

सफलता की कुंजी: शिक्षक

गुरूर्बह्मा, दुरुर्विष्णु: गुरुर्देवो महेश्वरः। गुरुर्सक्षात्परब्रह्म तस्मै श्रीगुरवे नमः।। गुरु, टीचर, आचार्य, अध्यापक, शिक्षक सभी शब्द एक ऐसे व्यक्ति की व्याख्या करते हैं जो ज्ञान देने के साथ हमें सही राह पर चलने को प्रेरित करता है। पुरे भारत में 5 सितम्बर को ‘शिक्षक दिवस‘ के रूप में मनाया जाने वाला यह दिन एक त्यौहार के समान होता है जो सभी …

Read More »

नृसिंह चतुर्दशी की जानकारी विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

Narsingh Chaturdashi

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को नृसिंह चतुर्दशी अथवा जयंती कहते हैं। शास्त्रों के अनुसार इस दिन श्री हरि विष्णु ने नृसिंह अवतार धारण कर दैत्यों के राजा हिरण्यकशिपु का संहार किया था। भक्त की भगवान के प्रति अटूट आस्था को सिद्ध करते हुए भगवान ने जगत को बताया की वह संसार के कण-कण में विराजमान हैं। …

Read More »

नृसिंह जयंती की जानकारी विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

नृसिंह जयंती - Narsingh Jayanti in Hindi

Narasimha (नरसिंह) is an avatar of the Hindu God Vishnu, one who incarnates in the form of part lion and part man to destroy an evil, end religious persecution and calamity on Earth, thereby restoring Dharma. पदम पुराण के अनुसार दिति और ऋषि कश्यप जी के दो पुत्र हिरण्यकश्य (हिरण्याकशिपु) और हिरण्याक्ष हुए। यह दोनों बड़े बलशाली एवं पराक्रमी थे …

Read More »