रंग उड़ाती आई होली: नीलम जैन की होली पर कविता

रंग उड़ाती आई होली: नीलम जैन की होली पर कविता

रंग उड़ाती आई होली: त्यौहारों का मज़ा तब ही है, जब वे ख़ुशियों के साथ संपन्न हों। होली है तो रंग भी होंगे। रंगों के साथ हुड़दंग भी होगा, ढोल−ताशे भी होंगे। यही सब तो होली की रौनक़ है। होली रंगों का त्यौहार है, हर्षोल्लास का त्यौहार है, उमंग का त्यौहार है। लेकिन दुख तो तब होता है, जब ज़रा सी लापरवाही से रंग में भंग पड़ जाता है। इंद्रधनुषी रंगों के इस त्यौहार की ख़ुशियां बरक़रार रहें, इसके लिए काफ़ी एहतियात बरतने की ज़रूरत होती है। अकसर देखने में आता है कि रसायनिक रंगों, भांग और शराब की वजह से कई परेशानियां पैदा हो जाती हैं।

रंग उड़ाती आई होली: नीलम जैन

पहली किरण को देखकर,
स्मित अधरों पर यों बोली।
उषा की लाली में डूबी,
रंग उड़ाती आई होली।

सजधज कर आएँगे साथी,
आँगन भर सजती रंगोली।
नाचेंगे और गाएँगे हम,
मधुर स्वरों से भरेगी झोली।

याद आएँगे प्रियजन सारे,
दूर देस के सभी नज़ारे।
कब फिर दिन आए दोबारा,
बाबुल का घर और हमजोली।

नीलम जैन

किस रंग से खेलें होली? जानिए अपनी राशि के अनुसार

मेष, वृश्चिक: इस राशि का स्वामी मंगल है, जो ऊर्जा का कारक है वहीं गुस्से का भी अत: मित्र राशि के रंगों का प्रयोग करें। मित्र रंगों में गुलाबी, पीले उत्तम रहेंगे।

वृषभ, तुला: इस राशि का स्वामी शुक्र है व शुभ रंग सिल्वर लेकिन इस कलर का उपयोग ठीक नहीं रहेगा। अत: मित्र रंगों का प्रयोग करें जैसे आसमानी व हल्के नीले रंगों का प्रयोग करें। इस प्रकार अपने आसपास के माहौल को खुशनुमा बनाएं।

मिथुन, कन्या: इस राशि का स्वामी बुध है अत: हल्के हरे रंग, गुलाबी, पीले, नारंगी, आसमानी रंग का प्रयोग कर इस त्योहार को यादगार बनाएं।

कर्क राशि वालों का स्वामी चन्द्रमा है। इसका रंग सफेद है अत: आप कोई रंग दही में मिलाकर प्रयोग करें। इस प्रकार रंगों भरी होली भी हो जाएगी व दही के प्रयोग से चेहरे पर भी हानिकारक प्रभाव कम होगा। कर्क राशि वाले वैसे ही भावुक होते हैं अत: उनके साथ होली की मस्ती सादगी से ही होना चाहिए।

सिंह: इस राशि का स्वामी सूर्य है व इसके रंग भी बड़े ही सुहावने हैं जैसे गुलाबी व मित्र रंग हल्के हरे, नारंगी, पीले आदि हैं। इन रंगों से आपका प्रभाव भी बढ़ेगा। सिंह राशि वाले उत्साही होते हैं। इन्हें नीरसता पसंद नहीं अत: इनके साथ मस्ती की होली खेली जा सकती है।

धनु, मीन– इसका स्वामी गुरु है, जो संत प्रवृत्ति का कारक है। इसके रंग पीले, नारंगी, फालसाई हैं। मित्र सूर्य हैं जिसका रंग गुलाबी है। इस राशि वाले सादगीपसंद होते हैं अत: इनके साथ सलीके से होली खेलकर इनका दिल जीत सकते हैं।

मकर, कुंभ– इस राशि का स्वामी शनि रंग आसमानी व नीले के साथ-साथ फिरोजी होता है। मित्र रंग हरे का भी प्रयोग कर सकते हैं। इन राशि वालों के साथ होली खेलना बड़ा ही दिलचस्प होता है। ये किसी भी रंग के प्रयोग का बुरा नहीं मानते।

Check Also

The Buddha At Kamakura - Rudyard Kipling English Poem

The Buddha At Kamakura: Rudyard Kipling Poem

Rudyard Kipling was born on December 30, 1865, in Bombay, India. He was educated in …