दूर का सितारा: निदा फ़ाज़ली

दूर का सितारा: निदा फ़ाज़ली

मैं बरसों बाद
अपने घर को तलाश करता हुआ
अपने घर पहुंचा
लेकिन मेरे घर में
अब मेरा घर कहीं नहीं था
अब मेरे भाई
अजनबी औरतों के शौहर बन चुके थे
मेरे घर में
अब मेरी बहनें
अनजान मर्दों के साथ मुझसे मिलने आती थीं
अपने­अपने दायरों में तक्.सीम
मेरे भाई­ बहन का प्यार
अब सिर्फ तोहफों का लेन­देन बन चुका था

मैं जब तक वहां रहा
शेव करने के बाद
ब्रश, क्रीम, सेफ़्टी­रेज़र
खुद धोकर अटैची में रखता रहा
मैले कपड़े
खुद गिन कर लौंड्री में देता रहा

अब मेरे घर में
वो नहीं थे
जो बहुत सों में बंट कर भी
पूरे के पूरे मेरे थे
जिन्हें मेरी हर खोई चीज़ का पता याद था

मुझे काफी देर हो गई थी
देर हो जाने पर हर खोया हुआ घर
आस्मां का सितारा बन जाता है
जो दूर से बुलाता है
लेकिन पास नहीं आता है

निदा फ़ाज़ली

आपको निदा फ़ाज़ली जी की यह कविता “दूर का सितारा” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

How To Meditate in Hindi ध्यान कैसे करें

ध्यान कैसे करें: How To Meditate

ध्यान कैसे करें: अगर मैं आपको ध्यान के बारे में विस्तृत रूप से बताने का …