Home » Tag Archives: Son

Tag Archives: Son

वर्षा के मेघ कटे – गोपी कृष्ण ‘गोपेश’ शब्द चित्र

वर्षा के मेघ कटे - गोपी कृष्ण 'गोपेश' शब्द चित्र

वर्षा के मेघ कटे – रहे–रहे आसमान बहुत साफ़ हो गया है, वर्षा के मेघ कटे! पेड़ों की छाँव ज़रा और हरी हो गई है, बाग़ में बग़ीचों में और तरी हो गई है – राहों पर मेंढक अब सदा नहीं मिलते हैं पौधों की शाखों पर काँटे तक खिलते हैं चन्दा मुस्काता है; मधुर गीत गाता है – घटे–घटे, …

Read More »

Motivational Hindi Story about Child Discrimination बेटी

Motivational Hindi Story about Child Discrimination बेटी

सुना तुमने कुछ अम्मा, पड़ोस वाले वर्मा जी के घर बेटी हुई है… कहते हुए शर्मा भाभी का मुँह विद्रूप हो उठा मानो बेटी ना हुई हो कोई साँप या छछूंदर पैदा हो गया हो। हमका तो समझ नहीं आवत है कि तीन-तीन बेटियों के बाद भी बेटा क्यों नहीं जन पा रही है। सत्तर के ऊपर हो चुकी मोहल्ले …

Read More »

Parent’s Day Special English Poem: The Parents Gift

Parent's Day Special English Poem: The Parents Gift

From afar, a model family we were Professional parents, a doctor, a lawyer A good income too Look closer, the greatest gift To your children, you could not give A good marriage So for your children you did live Father, in your youngest daughter You did find your sweet princess Your sunshine and your heart You held her hand and …

Read More »

Father’s Day Greetings

Father's Day Greetings

Father’s Day Greetings: Father’s Day is the righteous occasion to make your father feel special. It’s the time to express your love and gratitude for him. Your father is the person who has been with you, through all ups and downs. He is the person who held your hands while you started walking. Father’s Day Greetings for WhatsApp, Instagram & …

Read More »

The Fool – Lord Buddha English Poetry

The Fool - Lord Buddha English Poetry

Long is the night to one who is awake. Long is ten miles to one who is tired. Long is the cycle of birth and death to the fool who does not know the true path. If a traveller does not meet with one who is better or equal, let one firmly travel alone; there is no companionship with a …

Read More »

सिंधु में ज्वार – अटल बिहारी वाजपेयी

सिंधु में ज्वार – अटल बिहारी वाजपेयी

आज सिंधु में ज्वार उठा है नगपति फिर ललकार उठा है कुरुक्षेत्र के कण–कण से फिर पांचजन्य हुँकार उठा है। शत–शत आघातों को सहकर जीवित हिंदुस्थान हमारा जग के मस्तक पर रोली सा शोभित हिंदुस्थान हमारा। दुनियाँ का इतिहास पूछता रोम कहाँ, यूनान कहाँ है घर–घर में शुभ अग्नि जलाता वह उन्नत ईरान कहाँ है? दीप बुझे पश्चिमी गगन के …

Read More »

वालिद की वफ़ात पर – निदा फ़ाज़ली

वालिद की वफ़ात पर - निदा फाज़ली

तुम्हारी कब्र पर मैं फातिहा पढ़ने नहीं आया मुझे मालूम था तुम मर नहीं सकते तुम्हारी मौत की सच्ची खबर जिसने उड़ाई थी वो झूठा था वो तुम कब थे? कोई सूखा हुआ पत्ता हवा से हिल के टूटा था मेरी आँखें तुम्हारे मंजरों में कैद हैं अब तक मैं जो भी देखता हूँ सोचता हूँ वो… वही है जो तुम्हारी …

Read More »

Husband Wife Humorous One Liners

Husband Wife Humorous One Liner

Read More »

How much do you make an hour?

how-much-do-you-make-an-hour

SON: “Daddy, may I ask you a question?” DAD: “Yeah sure, what is it?” SON: “Daddy, how much do you make an hour?” DAD: “That’s none of your business. Why do you ask such a thing?” SON: “I just want to know. Please tell me, how much do you make an hour?” DAD: “If you must know, I make $100 …

Read More »

कभी गाड़ी नाव पर, कभी नाव गाड़ी पर – कहानियां कहावतो की

कभी गाड़ी नाव पर, कभी नाव गाड़ी पर – कहानियां कहावतो की

कभी गाड़ी नाव पर, कभी नाव गाड़ी पर – कहानियां कहावतो की एक दिन एक आदमी अपने लड़के के साथ बाज़ार जा रहा था। बाज़ार पहुंचकर उसने कुछ सामान खरीदा। सामान लेकर बाप-बेटे, दोनों बातें करते चले आ रहे थे। सामने से एक बैलगाड़ी आ रही थी। जब पास आ गयी, तो बाप-बेटे से बोला, “देखो बेटे, गाड़ी नाव पर जा …

Read More »