Home » Poems For Kids » Poems In Hindi » Eid Festival Hindi Poem ईद का त्यौहार
Eid Festival Hindi Poem ईद का त्यौहार

Eid Festival Hindi Poem ईद का त्यौहार

ईद के चाँद की खोज में हर बरस,
दिखती दुनियाँ बराबर ये बेजार है

बाँटने को मगर सब पे अपनी खुशी,
कम ही दिखता कहीं कोई तैयार है

ईद दौलत नहीं, कोई दिखावा नहीं,
ईद जज्बा है दिल का, खुशी की घड़ी

रस्म कोरी नहीं, जो कि केवल निभे,
ईद का दिल से गहरा सरोकार है !! १!!

अपने को औरों को और कुदरत को भी,
समझने को खुदा के ये फरमान है

है मुबारक घड़ी, करने एहसास ये  –
रिश्ता है हरेक का, हरेक इंसान से

है गुँथीं साथ सबकी यहाँ जिंदगी,
सबका मिल जुल के रहना है लाजिम यहाँ

सबके ही मेल से दुनियाँ रंगीन है,
प्यार से खूबसूरत ये संसार है !!२!!

मोहब्बत, आदमीयत,
मेल मिल्लत ही तो सिखाते हैं सभी मजहब संसार में

हो अमीरी, गरीबी या कि मुफलिसी,
कोई झुलसे न नफरत के अंगार में

सिर्फ घर – गाँव – शहरों ही तक में नहीं,
देश दुनियां में खुशियों की खुश्बू बसे

है खुदा से दुआ उसे सदबुद्धि दें,
जो जहां भी कहीं कोई गुनहगार है !!३!!

ईद सबको खुशी से गले से लगा,
सिखाती बाँटना आपसी प्यार है

है मसर्रत की पुरनूर ऐसी घड़ी,
जिसको दिल से मनाने की दरकार है

दी खुदा ने मोहब्बत की नेमत मगर,
आदमी भूल नफरत रहा बाँटता

राह ईमान की चलने का वायदा,
खुद से करने का ईद एक तेवहार है !!४!!

जो भी कुछ है यहां सब खुदा का दिया,
वह है सबका किसी एक का है नहीं

बस जरूरत है ले सब खुशी से जियें,
सभी हिल मिल जहाँ पर भी हों जो कहीं

खुदा सबका है सब पर मेहरबांन है,
जो भी खुदगर्ज है वह ही बेईमान है

भाईचारा बढ़े औ मोहब्बत पले,
ईद का यही पैगाम, इसरार है !!५!!

~ प्रो सी.बी. श्रीवास्तव

आपको प्रो सी.बी. श्रीवास्तव जी की यह कविता “ईद का त्यौहार” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

घर की मुर्गी दाल बराबर – कहानियां कहावतो की

घर की मुर्गी दाल बराबर – कहानियां कहावतो की

फकीरा बहुत गरीब था। मेहनत मज़दूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करता था। घर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *