Home » Poems For Kids » Sanskrit Poem Appreciating Teacher आचार्य देवो भवः – दीक्षा खुल्लर
Acharya Devo Bhava

Sanskrit Poem Appreciating Teacher आचार्य देवो भवः – दीक्षा खुल्लर

Acharya Devo Bhava - Diksha Khullar Sanskrit Poem

∼ Diksha Khullar [7th Standard, St. Gregorios School, Gregorios Nagar, Sector 11, Dwarka, New Delhi]

आपको दीक्षा खुल्लर की यह संस्कृत कविता “आचार्य देवो भवः” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

पेड़ सदा शिक्षा देता है - शिक्षाप्रद हिंदी कविता

पेड़ सदा शिक्षा देता है – शिक्षाप्रद हिंदी कविता

पेड़ सदा शिक्षा देता है जीव जंतुओं की ही भांति, वृक्षों में जीवन होता है। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *