Home » Folktales For Kids » Folktales In Hindi (page 3)

Folktales In Hindi

Folktales In Hindi

गए थे नमाज पढ़ने, रोजे गले पड़ गए Folktale on Hindi Proverb

गए थे नमाज पढ़ने, रोजे गले पड़ गए – Folktale on Hindi Proverb

एक मोहल्ले में काजी का परिवार था। सब मोहल्ले वाले काजी के परिवार का सम्मान करते थे। इस परिवार के सभी बच्चे पढ़ने में होशियार थे। सभी काम में लगे हुए थे। लेकिन उस परिवार में एक लड़का ऐसा था कि उसके आचार – विचार घर के लोगों से अलग थे। परिवार के सब लोग नमाज पढ़ते थे और धार्मिक …

Read More »

बात चलती है, तो दूर तक जाती है Folktale on Hindi Proverb

बात चलती है, तो दूर तक जाती है – Folktale on Hindi Proverb

एक गाँव के दो परिवारों में बहुत घनिष्टता थी। दोनों परिवार के लोग एक – दुसरे के यहाँ आते – जाते थे, उठते – बैठते थे। यदि कभी एक परिवार परेशानी में होता था, तो दूसरा परिवार उसकी मदद करने को तैयार रहता था। गाँव में किसी से कहा – सुनी हो जाए या झगड़ा हो जाए, तो दोनों परिवार मिलकर …

Read More »

अँधा बांटे रेबड़ी, घूम – धूम अपने को देय Folktale on Hindi Proverb

अँधा बांटे रबड़ी, घूम - धूम अपने को देय - Folktale on Hindi Proverb

एक गड़रियों का गाँव था। ये लोग अधिकतर बकरियां और भेड़े चराने का काम करते थे। उनमें कई लोग ऊंट भी रखते थे। ऊंट से गाँव के आस – पास लगने वाले हाटों का सामान लाते, ले जाते थे। एक दिन एक गड़रिया ऊंट खरीदकर लाया। उसने इस ख़ुशी में लोगों को प्रसाद बांटना चाहा। उसने दो व्यक्तियों को बनिया की …

Read More »

अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे Folktale on Hindi Proverb

अब आया ऊंट पहाड़ के नीचे – Folktale on Hindi Proverb

अनाज तथा अन्य सामान की ढुलाई बैलजाड़ियां, घोड़ों, ऊंटों आदि से होती थी। सामान को लाने – ले – जाने के यही साधन थे। एक आदमी ऊंट से सामान लाने – ले – जाने का काम करता था। कभी वह खलिहानों से अनाज बाज़ार में ले जाता था। कभी सामान को एक स्थान से दुसरे स्थान पर ले जाता था। …

Read More »

ऊंट की चोरी निहुरे – निहुरे Folktale on Hindi Proverb

ऊंट की चोरी निहुरे - निहुरे - Folktale on Hindi Proverb

एक चोर था। वह जानवरों की चोरी किया करता था। कभी कहीं से गाय चुरा लेता था। कहीं से बैल चुरा लेता था। चोरी किए गए चौपायों को वह बहुत दूर जाकर बेच आता था। कभी – कभी वह जानवरों के मेलों में बेच आता था। कई बार वह पकड़ा भी गया था। खूब पीटा भी था। कभी – कभी वह …

Read More »

बिटौरे से तो उपले ही निकलेंगे Folktale on Hindi Proverb

बिटौरे से तो उपले ही निकलेंगे-Folktale on Hindi Proverb

एक अहींरो का गाँव था। उसमे एक युवक था। उसकी चोरी करने की आदत छुटपन से ही पड़ गई थी। वैसे तो इस प्रवृत्ति के दो – चार व्यक्ति और भी थे इस गांव मेँ। उससे पूरा परिवार दुखी रहता था। चोरी – चकारी मे जब उसका नाम आता था, परिवार के लोगो की निगाहें नीची हो जाती थी। बड़ी …

Read More »

कभी घी भर घना, कभी मुट्ठी भर चना Folktale on Hindi Proverb

कभी घी भर घना, कभी मुट्ठी भर चना-Folktale on Hindi Proverb

एक संपन्न परिवार था। उसके यहाँ खेतीवाड़ी का काम होता था। घर मेँ गांय – भैंसे थी। फसल खूब होती थी। घर मेँ सब तरह का सामान बना रहता था। रिश्तेदारोँ की आव – भगत भी अच्छी होती थी। तीज – त्योहार के दिन पूरी पकवान बनते थे। कहने का मतलब किसी तरह की कोई कमी न थी। गाय – …

Read More »

हंडिया मेँ एक चावल देखा जाता है Folktale on Hindi Proverb

हंडिया मेँ एक चावल देखा जाता है-Folktale on Hindi Proverb

एक परिवार था। उस परिवार मेँ रोज रोटियां ही बनती थी। रोटी ओ के साथ के लिए कभी सब्जी बनती थी कभी दाल। लेकिन दो – चार दिन बाद एक समय चावल भी बन जाते थे। चावल अधिकतर दाल के साथ या कढ़ी के साथ खाए जाते। उस परिवार मेँ एक लड़की भी थी। जब उसकी दादी चावल पकाती तो …

Read More »

एक से भले दो Hindi Folktale on Proverb Two Heads Are Better Than One

एक से भले दो-Hindi Folktale on Proverb Two Heads Are Better Than One

एक परिवार था। उस परिवार में बूढी माँ और एक उसका लड़का। एक लड़की भी थी जो ससुराल में थी। बूढी माँ जीवों से बहुत प्यार करती थी। जब लड़का काम पर करता था, तो माँ अकेली रह जाती थी। उस समय बुढ़िया कुत्ता, तोता और नेवला से मन लगाए रखती थी। उसका लड़का भी इनसे बहुत प्यार करता था। …

Read More »

कंगाली में आटा गिला Folktale on Hindi Proverb

कंगाली में आटा गिला–Folktale on Hindi Proverb

एक मजदूर परिवार था। उस परिवार में किसी – न – किसी चीज का अभाव हमेशा बना रहता था। परिवार मेँ किसी बच्चे के पास पूरे कपड़े नहीँ होते थे। घर की रुखी – सूखी रोटी के अलावा बाहर की चीजें कम खा पाते थे। सर्दियाँ भी बिना गर्म कपड़ों के गुजर जाती थी। कभी भरपेट खाते तो कभी आधा …

Read More »