Tag Archives: Restlessness folktales For Kids

Tulsidas And Thieves: Old Classic Moral Story

Sant Tulsidas And Thieves: Old Classic Moral Story

Tulsidas And Thieves: Many years ago, when the great Emperor Akbar ruled at Delhi, there lived a man named Tulsidas who wrote the Ramayana. Valmiki wrote the Ramayana in Sanskrit, but Tulsidas wrote it in Hindi, the spoken language of the people. That is why Tulsidas’s Ramayana is more popular than that of Valmiki’s. It is enacted every year as …

Read More »

चतुर सुनार: भारत की एक रोचक लोककथा बच्चों के लिए

चतुर सुनार

चतुर सुनार: एक समय की बात है – एक राजा था, जिसे अपने बुद्धिमान होने का बड़ा घमंड था। उसका विशवास था कि पूरे राज्य में एक भी ऐसा नही है, जो उसे धोका देकर साफ़ निकल जाए। एक दिन यह बात उसने मंत्रियों से कही। सबने हकमी भर दी, सिवाय एक के। राजा को बड़ा आश्चर्य हुआ। “क्या तुम …

Read More »

Surdas and Sweeper: Guru Shishya Story

Surdas and Sweeper: Guru Shishya Story

There once lived a seeker of God called Surdas. He was eager to study and understand Spirituality (knowledge about God). He approached a Guru and requested that the Guru teach him spiritual practice, so that he could get close to God. The Guru was well aware of Surdas’ defect of anger. He knew that this would prevent Surdas from feeling …

Read More »

घर की मुर्गी दाल बराबर: कहानियां कहावतों की

घर की मुर्गी दाल बराबर – कहानियां कहावतो की

फकीरा बहुत गरीब था। मेहनत मज़दूरी करके अपने परिवार का पालन पोषण करता था। घर में अधिकतर दाल रोटियां ही बनती थी। एकादि बार प्याज की चटनी भी चल जाती थी। फिर शाम को दाल। कभी कभी हरी सब्ज़ी बनती थी। मीट तो बकरीद के समय ही बन पाता था। कभी खरीदकर लाते थे। कभी किसी के यहाँ से आ …

Read More »

घर में नहीं दाने, अम्मा चली भुनाने: कहानियां कहावतों की

घर में नहीं दाने, अम्मा चली भुनाने-Hindi folktale on proverb No rash at home, went to her cash

एक गरीब परिवार था। उसका खर्चा जैसे ­ तैसे चल रहा था। घर में कभी दाल रोटी कभी सब्ज़ी ­ रोटी। लेकिन महीने में भी कई दिन ऐसे आते थे जब बिना दाल ­सब्ज़ी के गुजरा होता था। कभी प्याज­ नमक से रोटियाँ खाते कभी चटनी के साथ। सभी एकादी आलू बचा लेते तो उसे उबालकर भरता बना लेते। कभी …

Read More »