Tag Archives: Fatigue Stories for Students

A Gift From Mother: Mystery Thriller Story

A Gift From Mother: Saibal Chakravarty

A Gift From Mother: During 1942, Bengal rose like one man to participate in Gandhi ji‘s Quit India Movement. In the course of the struggle for freedom, a young Bengali girl, Sharada Chatterjee aimed a revolver at Mr. Gordon Jackson, Police Commissioner, Calcutta, and fired twice. The incident took place at the prize distribution ceremony of a high school where …

Read More »

The Bailiff’s Bootsoles: Story From Urals

Story From The Urals: The Bailiff's Bootsoles

The Bailiff’s Bootsoles: There was a bailiff in Polevaya once called Severyan Kondratych. Eh, what a ruffian he was, what a ruffian! They’d never known the like since there’d been mines and mills there. A hound, he was, and worse. A wild beast. The Bailiff’s Bootsoles: Pavel Bazhov He knew little enough about the work, but when it came to …

Read More »

प्रतिशोध: नारी उत्पीड़न की कहानी – मंजरी शुक्ला

प्रतिशोध - नारी उत्पीड़न की कहानी

प्रतिशोध: नारी उत्पीड़न की कहानी – दूर से आती आवाज़ को कभी गौर से सुनना नहीं पड़ा और जो सामने था उसकी स्पष्ट आवाज़ कभी कानों में आई नहीं। क्या, क्यों और कैसे शब्दों का कोई अर्थ नहीं रह गया था। किसी शान्त नदी के किनारे या उफ़नते समुद्र के ज्वर भाटे उसे एक सा ही सुकून देते थे। उसे …

Read More »

नई सीख: दिल को भावुक कर देने वाली कहानी

नई सीख:

“जब तुम्हारे सारे दोस्त फ़ीस जमा कर रहे थे तब तुम कहाँ थे?” मिश्रा सर ने अंकुर से गुस्से से पूछा। “मैं भूल गया था सर” अंकुर ने ज़मीन की ओर ताकते हुए कहा। “और जब आज फ़ीस भरने की आख़िरी तारीख़ है तो तुम मेरा हिंदी का पीरियड छोड़कर फ़ीस भरने ऑफ़िस जाना चाहते हो” सर की आवाज़ अब …

Read More »

दो बैलों की कथा: मुंशी प्रेमचंद की लोकप्रिय कहानी

Munshi Premchand Classic Hindi Story दो बैलों की कथा

कथाकार मुंशी प्रेमचंद भारत के ही नहीं, दुनियाभर में विख्यात हुए और ‘कथा सम्राट‘ कहलाए। प्रेमचंद की जयंती 31 जुलाई को बड़े ही उत्‍साह से मनाई जाती  है। इस खास मौके पर उनकी कहानी ‘दो बैलों की कथा‘ पढ़कर अपनी यादें ताजा कर लीजिए… दो बैलों की कथा [1]: हीरा और मोती जानवरों में गधा सबसे ज्यादा बुद्धिमान समझा जाता …

Read More »

न्याय: घर की नौकरानी की रोजमरा के दुखों से टिक-टोक

न्याय: घर की नौकरानी की रोजमरा के दुखों से टिक-टोक

“पाँच हज़ार रुपये दे दो बाबूजी…” धन्नो बाबूजी के पैरों पर अपना सिर रखे दहाड़े मार कर रो रही थी और बाबूजी निर्विकार भाव से बैठकर पेपर पढ़ रहे थे। रोते-रोते धन्नों की हिचकियाँ बंध गई थी और आँखें सूजकर लाल हो चुकी थी पर बाबूजी किसी बुत की तरह बिना हिले डुले चुपचाप अपनी आरामकुर्सी पर बैठे हुए थे। …

Read More »

देव-कन्या: नर्स और मरीज की एक प्रेरणादायक कहानी

Dev kanya

“लगता है जिन्दगी और मौत के बीच का फासला बहुत कम है…!” “ऐसा मत बोलो… जन्म हो या मृत्यु, जो कुछ ऊपर वाले ने लिख दिया वह होना तय है, घबराने से कुछ नहीं मिलता! जिन्दगी के साथ सुख-दुःख तो लगे ही रहते हैं।” “और तो कुछ नहीं, बस छोटी का विवाह मेरे सामने हो जाता फिर भले ही चला …

Read More »