Abraham Lincoln Quotes in Hindi - अब्राहम लिंकन के अनमोल विचार

अब्राहम लिंकन के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

अब्राहम लिंकन (12 फरवरी, 1809 होदगेंविल्ले, केंटकी, अमेरिका – 15 अप्रैल 1865) अमेरिका के सोलहवें राष्ट्रपति थे। इनका कार्यकाल 1861 से 1865 तक था। ये रिपब्लिकन पार्टी से थे। उन्होने अमेरिका को उसके सबसे बड़े संकट – गृहयुद्ध (अमेरिकी गृहयुद्ध) से पार लगाया। अमेरिका में दास प्रथा के अंत का श्रेय लिंकन को ही जाता है।

अब्राहम लिंकन का जन्म एक गरीब अश्वेत परिवार में हुआ था। वे प्रथम रिपब्लिकन थे जो अमेरिका के राष्ट्रपति बने। उसके पहले वे एक वकील, इलिअन्स स्टेट के विधायक (लेजिस्लेटर), अमेरिका के हाउस ऑफ् रिप्रेस्न्टेटिव्स के सदस्य थे। वे दो बार सीनेट के चुनाव में असफल भी हुए।

अब्राहम लिंकन के अनमोल विचार विद्यार्थियों और बच्चों के लिए

  • मित्र वो है जिसके शत्रु वही हैं जो आपके शत्रु हैं।
  • औरत ही एक मात्र प्राणी है जिससे मैं ये जानते हुए भी की वो मुझे चोट नहीं पहुंचाएगी, डरता हूँ।
  • प्रजातंत्र जनता का, जनता के द्वारा और जनता के लिए चुनी गयी सरकार है।
  • अगर कुत्ते की पूँछ को पैर कहें, तो कुत्ते के कितने पैर हुए? चार। पूछ को पैर कहने से वो पैर नहीं हो जाती।
  • मैं जो भी हूँ, या होने की आशा करता हूँ, उसका श्रेय मेरी माँ को जाता है।
  • हमेशा ध्यान में रखिये की आपका सफल होने का संकल्प किसी भी और संकल्प से महत्त्वपूर्ण है।
  • शत्रुओं को मित्र बना कर क्या मैं उन्हें नष्ट नहीं कर रहा?
  • अगर शांती चाहते हैं तो लोकप्रियता से बचिए।
  • साधारण दिखने वाले लोग ही दुनिया के सबसे अच्छे लोग होते हैं: यही वजह है कि भगवान ऐसे बहुत से लोगों का निर्माण करते हैं।
  • किसी वृक्ष को काटने के लिए आप मुझे छ: घंटे दीजिये और मैं पहले चार घंटे कुल्हाड़ी की धार तेज करने में लगाऊंगा।
  • यदि आप एक बार अपने साथी नागरिकों का भरोसा तोड़ दें, तो आप फिर कभी उनका सत्कार और सम्मान नहीं पा सकेंगे।
  • जब मैं अच्छा कर हूँ, मुझे अच्छा लगता है। जब मैं बुरा करता हूँ, तो मुझे बुरा लगता है। यही मेरा धर्म है।
  • हमेशा ध्यान में रखिये कि आपके द्वारा सफल होने का लिया गया संकल्प किसी भी अन्य संकल्प से ज्यादा महत्त्वपूर्ण है।

Check Also

Hindi Diwas - 14 September

Hindi Diwas Slogans For Students And Children

Hindi Divas is celebrated annually on 14th of September all over India to give importance …