तुझे कैसे भूल जाऊं: दुष्यंत कुमार

तुझे कैसे भूल जाऊं: दुष्यंत कुमार

अब उम्र की ढलान उतरते हुए मुझे
आती है तेरी याद‚ तुझे कैसे भूल जाऊं।

गहरा गये हैं खूब धुंधलके निगाह में
गो राहरौ नहीं हैं कहीं‚ फिर भी राह में –
लगते हैं चंद साए उभरते हुए मुझे
आती है तेरी याद‚ तुझे कैसे भूल जाऊं।

फैले हुए सवाल सा‚ सड़कों का जाल है‚
ये सड़क है उजाड़‚ या मेरा ख़याल है‚
सामाने–सफ़र बांधते–धरते हुए मुझे
आती है तेरी याद‚ तुझे कैसे भूल जाऊं।

फिर पर्वतों के पास बिछा झील का पलंग
होकर निढाल‚ शाम बजाती है जलतरंग‚
इन रास्तों से तनहा गुज़रते हुए मुझे
आती है तेरी याद‚ तुझे कैसे भूल जाऊं।

उन निलसिलों की टीस अभी तक है घाव में
थोड़ी–सी आंच और बची है अलाव में‚
सजदा किसी पड़ाव में करते हुए मुझे
आती है तेरी याद‚ तुझे कैसे भूल जाऊं।

दुष्यंत कुमार

आपको दुष्यंत कुमार जी की यह कविता “तुझे कैसे भूल जाऊं” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

जगन्नाथ रथयात्रा की 10 रोचक बातें, जानकर हैरान रह जाएंगे

जगन्नाथ रथयात्रा की रोचक बातें, हैरान रह जाएंगे

जगन्नाथ रथयात्रा का हिंदू धर्म में बेहद खास महत्व माना जाता है और इसका आयोजन …