ताजमहल – राम प्रसाद शर्मा

Tajmahal Poemअखिल विश्व की आन है ताज,
आगरा की तो शान है ताज।

शाहजहाँ ने इसे बनवाया,
मुमताज प्रेम सर चढ़ाया।

संगमरमर भी लगा सफेद,
समझ न आये इसका भेद।

अमर प्रेम की है निशानी,
सोए इसमें राजा रानी।

देखने इसे पर्यटक आएं,
दाँतों तले ऊँगली दबाएं।

विश्व धरोहर यह कहलाता,
ताजमहल तो सब मन भाता।

∼ राम प्रसाद शर्मा

Check Also

Har Ghar Tiranga Bike Rally

Har Ghar Tiranga Bike Rally Stock Photos

‘A Har Ghar Tiranga Bike Rally‘ by Members of Parliament was launched in Delhi from …