जरूरत क्या थी? – हुल्लड़ मुरादाबादी

आइना उनको दिखाने कि ज़रूरत क्या थी
वो हैं वंदर ये बताने कि ज़रूरत क्या थी?

दो के झगड़े में पिटा तीसरा, चौथा बोला
आपको टाँग अड़ाने कि ज़रूरत क्या थी?

चार बच्चों को बुलाते तो दुआएँ मिलतीं
साँप को दूध पिलाने कि ज़रूरत क्या थी?

चोर जो चुप ही लगा जाता तो वो कम पिटता
बाप का नाम बताने कि ज़रूरत क्या थी?

जब पता था कि दिसंबर में पड़ेंगे ओले
सर नवंबर में मुँड़ाने कि ज़रूरत क्या थी?

अब तो रोज़ाना गिरेंगे तेरे घर पर पत्थर
आम का पेड़ लगाने कि ज़रूरत क्या थी?

एक शायर ने ग़ज़ल की जगह पे गाली पेली
उसको दस पैग पिलाने कि ज़रूरत क्या थी?

जब नहीं पूछा किसी ने क्या थे जिन्ना क्या नहीं
आपको राय बताने कि ज़रूरत क्या थी?

दोस्त जंगल में गया हाथ गँवा कर लौटा
शेर को घास खिलाने कि ज़रूरत क्या थी?

∼ हुल्लड़ मुरादाबादी

About Hullad Moradabadi

हुल्लड़ मुरादाबादी (29 मई 1942 – 12 जुलाई 2014) इनका वास्तविक नाम सुशील कुमार चड्ढा, एक हिंदी हास्य कवि थे। इतनी ऊंची मत छोड़ो, क्या करेगी चांदनी, यह अंदर की बात है, तथाकथित भगवानों के नाम जैसी हास्य कविताओं से भरपूर पुस्तकें लिखने वाले हुल्लड़ मुरादाबादी को कलाश्री, अट्टहास सम्मान, हास्य रत्न सम्मान, काका हाथरसी पुरस्कार जैसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। भारत के पूर्व राष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा द्वारा मार्च 1994 में राष्ट्रपति भवन में अभिनंदन हुआ था। हुल्लड़ मुरादाबादी का जन्म 29 मई 1942 को गुजरावाला, पाकिस्तान में हुआ था। बंटवारे के दौरान परिवार के साथ मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश आ गए थे। शुरुआत में उन्होंने वीर रस की कविताएं लिखी लेकिन कुछ समय बाद ही हास्य रचनाओं की ओर उनका रुझान हो गया और हुल्लड़ की हास्य रचनाओं से कवि मंच गुलजार होने लगे। सन 1962 में उन्होंने ‘सब्र’ उप नाम से हिंदी काव्य मंच पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। बाद में वह हुल्लड़ मुरादाबादी के नाम से देश दुनिया में पहचाने गए। उनका एक दोहा- पूर्ण सफलता के लिए, दो चीजें रख याद, मंत्री की चमचागिरी, पुलिस का आशीर्वाद।’ राजनीति पर उनकी कविता- ‘जिंदगी में मिल गया कुरसियों का प्यार है, अब तो पांच साल तक बहार ही बहार है, कब्र में है पांव पर, फिर भी पहलवान हूं, अभी तो मैं जवान हूं...।’ उन्होंने कविताओं और शेरो शायरी को पैरोडियों में ऐसा पिरोया कि बड़ों से लेकर बच्चे तक उनकी कविताओं में डूबकर मस्ती में झूमते रहते। एचएमवी एवं टीसीरीज से कैसेट्स से ‘हुल्लड़ इन हांगकांग’ सहित रचनाओं का एलबम भी हैं। उन्होंने बैंकाक, नेपाल, हांगकांग, तथा अमेरिका के 18 नगरों में यात्राये भी की।

Check Also

Babli Bouncer: 2022 Bollywood Comedy Drama

Babli Bouncer: 2022 Bollywood Comedy Drama

Movie Name: Babli Bouncer Directed by: Madhur Bhandarkar Starring: Tamannaah as Babli, Abhishek Bajaj, Sahil …