डाल पर बन्दर

Daal Par Bandarबैठा था एक डाल पर बन्दर
भीग रहा पानी के अंदर।

थर-थर थर-थर काँप रहा था,
ऑछी-ऑछी रहा था।

चिड़िया बोली बन्दर मामा,
कहा नहीं क्यों तुमने माना ?
ऑछी-ऑछी छींक रहे हो

सुन मामा को गुस्सा आया,
चिड़िया का घर तोड़ गिराया।

चूँ-चूँ चूँ-चूँ चिड़िया रोई,
बैठ डाल पर वो भी सोई।

Check Also

Friend Who Came From The Sky: Padma Rao

Friend Who Came From The Sky: Padma Rao

It was one of those days in March, when a wind starts blowing from nowhere, …