छाया मत छूना: गिरिजा कुमार माथुर

छाया मत छूना: गिरिजा कुमार माथुर

छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।
जीवन में हैं सुरंग सुधियां सुहावनी
छवियों की चित्र गंध फैली मनभावनी:
तन सुगंध शेष रही बीत गई यामिनी‚
कुंतल के फूलों की याद बनी चांदनी।
भूली सी एक छुअन बनता हर जीवित क्षण –
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

यश है ना वैभव है मान है न सरमाया;
जितना भी दौड़ा तू उतना ही भरमाया।
प्रभुता का शरण बिम्ब केवल मृगतृष्णा है‚
हर चंद्रिका में छिपी एक रात कृष्णा है
जो है यथार्थ कठिन उसका तू कर पूजन –
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

दुविधा हत साहस है दिखता है पंथ नहीं
देही सुख हो पर मन के दुख का कुछ अंत नहीं।
दुख है न चांद खिला शरद रात आने पर‚
क्या हुआ जो खिला फूल रस वसंत जाने पर?
जो न मिला भूल उसे कर तू भविष्य वरण‚
छाया मत छूना
मन‚ होगा दुख दूना।

∼ गिरिजा कुमार माथुर

आपको गिरिजा कुमार माथुर जी की यह कविता “छाया मत छूना” कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

World Tourism Day

World Tourism Day Information (27 Sept)

Since 1980, the United Nations World Tourism Organization has celebrated World Tourism Day (WTD) as …