अपराध - नसीम अख्तर

अपराध – नसीम अख्तर

संकरी, अंधेरी

गीली गीली गलियों के

दड़बेनुमा घरों की

दरारों से

आज भी झांकते हैं

डर भरी आंखों

और सूखे होंठों वाले

मुरझाए, पीले

निर्भाव, निस्तेज चेहरे

जिन का

एक अलग संसार है

और है

एक पूरी पीढ़ी

जो सदियों से भोग रही है

उन कर्मों का दंड

जो उन्होंने किए ही नहीं

अनजाने ही

हो जाता है उन से

यह अपराध एक और

कि वे

दड़बेनुमा घरों की दरारों से

देखने का करते हैं प्रयत्न

एक पल में ही सारा संसार

~ नसीम अख्तर

आपको नसीम अख्तर की यह कविता कैसी लगी – आप से अनुरोध है की अपने विचार comments के जरिये प्रस्तुत करें। अगर आप को यह कविता अच्छी लगी है तो Share या Like अवश्य करें।

यदि आपके पास Hindi / English में कोई poem, article, story या जानकारी है जो आप हमारे साथ share करना चाहते हैं तो कृपया उसे अपनी फोटो के साथ E-mail करें। हमारी Id है: submission@4to40.com. पसंद आने पर हम उसे आपके नाम और फोटो के साथ यहाँ publish करेंगे। धन्यवाद!

Check Also

The Day Mother Raised The Flag

The Day Mother Raised The Flag: Moral Story

The Day Mother Raised The Flag: On August 15, at the stroke of midnight, the …