Hindi Jokes

Hindi Jokes

हरयाणे का ताऊ

एक बै ताऊ पिक्चर देखण गया, पिक्चर का नाम था बॉबी अर गाणा चाल रया था, “मैं मायके चली जाऊंगी”।
डिंपल: मैं मायके चली जाऊंगी, तुम देखते रहियो।
ताऊ: न्यू क्यूकर चली ज्यागी, यो तेरी नहासां ने फोड़ देगा।
ऋषि: मैं दूजा ब्याह रचाउंगा।
ताऊ: येह्ह्ह्ह बात… छोरे ने कट्या रोग।
डिंपल: मैं कुवें में गिर जाउंगी।
ताऊ: छोरे बहकाए में मत आ ज्याइये… पाखण्ड कर रिह सै।
ऋषि: मैं रस्सी से खिंचवाऊंगा।
ताऊ: अरे क्या ने खिंचवावे सै….
आगे फेर सेधेगी।

डिंपल: मैं पेड़ पर चढ़ जाउंगी।
ताऊ: टंगी रहन्दे सासु की नै।
ऋषि: मैं आरी से कटवाऊंगा।
ताऊ: अरे तू भी मैंने तो किमे नकली सा ए लाग्या…
खामखाँ अपनी बुआ नै सिर पै चढ़ा रया सै।

डिंपल: मैं मायके नहीं जाउंगी, मैं मायके नहीं जाउंगी।
ताऊ: तावलिये होश ठिकाणे आगे

इज़्ज़त की वाट

आदमी– भगवन जब मरने लगूं तो 5 मिनट जरूर देना..

भगवान– वो क्यों?

आदमी– मोबाइल फॉर्मेट कर लूंगा। नहीं तो इज़्ज़त की वाट लग जायेगी।

ICC World Cup 2015

सुना है अगर हम आयरलैंड को हरा दें तो पाकिस्तान क्वार्टर फाइनल मैं पहुंच जायेगा
.
इसी बीच सीमा पार से गानो की आवाज़ आ रही है
.
एक हज़ारों में मेरे पापा हैं…

Jisko dance nahi karna wo jaa ke apni bhains charaiye

Shaadi main DJ pe gaana baja
jisko dance nahi karna wo jaa ke apni bhains charaiye
Husband- Chalo darling khaana khate hai

चार बातें हमेशा याद रखो

पहली बात:
हर इंसान इतना बुरा नही होता जितना वो पेन कार्ड और आधार कार्ड मैं दीखता है। और इतना अच्छा भी नही होता जितना वो फेस बुक और वाटस एप पर दिखता है।

दूसरी बात:
हर आदमी इतना बुरा नही होता जितना उसकी बीबी उसको समझती है और इतना अच्छा भी नहीं होता जितना उसकी माँ उसको समझती है।

तीसरी बात:
हर आदमी अपनी लाइफ पार्टनर के बारे मैं सोचता है कि वो मिस यूनिवर्स दिखे और घर मैं काम शांता बाई की तरह करे।

चौथी बात:
हर औरत अपने लाइफ पार्टनर के बारे मै सोचती है की वो अम्बानी तरह कमाए और व्यहवहार मनमोहन सिंह की तरह करे।
मंगल कामनाओ सहित समर्पित परन्तु कृपया मुस्कुरायें या हंसे नहीं।

किस्मत हो तो मोदी जी जैसी हो।
सवाल पूछने के लिए विपक्ष में नेता नहीं और घर पर बीबी नहीं।

No चिक चिक…
No छिक छिक।

कहो बहिन

दो महिलाओं की मुलाकात स्वर्ग में हुई.

पहली – कहो बहिन, तुम्हारी मौत कैसे हुई?
दूसरी – ज्यादा ठण्ड लगने के कारण. और तुम्हारी?
पहली – हाई ब्लड प्रेशर के कारण. बात दरअसल यह हुई कि मुझे अपने पति पर शक था. एक दिन मुझे पता चला कि वो घर में किसी दूसरी औरत के साथ हैं. मैं फ़ौरन घर पहुंची तो देखा कि मेरे पति आराम से अकेले टीवी देख रहे हैं.
दूसरी – फिर क्या हुआ
पहली – खबर पक्की थी इसलिए मुझे विश्वास नहीं हुआ. मैंने उस औरत को घर के कोने कोने में, तहखाने में, पर्दों के पीछे, गार्डेन में यहाँ तक कि अलमारी और संदूक तक में तलाश किया पर वह नहीं मिली. मुझे इतनी टेंशन हुई कि मेरा ब्लड प्रेशर बहुत बढ़ गया और मेरी मौत हो गई.
दूसरी – काश! तुमने फ्रिज खोलकर देख लिया होता तो आज हम दोनों जिन्दा होती…

मुहावरो के आधुनिक अर्थ…

1. सुख की जान दुःख में डालना = शादी करना
2. आ बैल मुझे मार = पत्नी से पंगा लेना
3. दीवार से सर फोड़ना = पत्नी को कुछ समझाना
4. चार दिन की चांदनी वही अँधेरी रात = पत्नी का मायके से वापस आना
5. आत्म हत्या के लिए प्रेरित करना = शादी की राय देना
6. दुश्मनी निभाना = दोस्तों की शादी करवाना
7. खुद का स्वार्थ देखना = शादी ना करना
8. पाप की सजा मिलना = शादी हो जाना
9. लव मैरिज करना = खुद से युद्ध करने को योद्धा ढूंढना
10. जिंदगी के मज़े लेना = कुँवारा रहना
11. ओखली में सिर देना = शादी के लिए हाँ करना
12. दो पाटों में पिसना = दूसरी शादी करना
13. खुद को लुटते हुऐ देखना = पत्नी को पर्स से पैसे निकालते हुए देखना
14. पैरों तले जमीन खिसकना = पत्नी को साक्षात सामने दिखना
15. शादी के फ़ोटो देखना = गलती पर पश्चाताप करना
16. सर मुंडाते ही ओले पड़ना = परीक्षा में फेल होते ही शादी हो जाना
17. शादी के लिए हाँ करना = स्वेच्छा से जेल जाना
18. शादी = बिना अपराध की सजा
19. बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना = दुसरो के दुःख से खुश होना
20. साली आधी घर वाली = वो स्कीम जो दूल्हे को बताई जाती है लेकिन दी नहीं जाती…

शोले के गब्बर का चरित्र चित्रण

प्रश्न: शोले के गब्बर का चरित्र चित्रण कीजिये?

10वीं कक्षा के छात्र द्वारा दिया गया उत्तर:

gabbar-singh1. सादा जीवन, उच्च विचार:

गब्बर के जीने का ढंग बड़ा सरल था। पुराने और मैले कपड़े, बढ़ी हुई दाढ़ी, महीनों से जंग खाते दांत और पहाड़ों पर खानाबदोश जीवन। जैसे मध्यकालीन भारत का फकीर हो। जीवन में अपने लक्ष्य की ओर इतना समर्पित कि ऐश-ओ-आराम और विलासता के लिए एक पल की भी फुर्सत नहीं और विचारों में उत्कृष्टता के क्या कहने। ‘जो डर गया, सो मर गया’ जैसे संवादों से उसने जीवन की क्षणभंगुरता पर प्रकाश डाला था।

2. दयालु प्रवृत्ति:

ठाकुर ने उसे अपने हाथों से पकड़ा था। इसलिए उसने ठाकुर के सिर्फ हाथों को सज़ा दी अगर वो चाहता तो गर्दन भी काट सकता था पर उसके ममतापूर्ण और करुणामय ह्रदय ने उसे ऐसा करने से रोक दिया।

3. नृत्य-संगीत का शौकीन:

‘महबूबा ओ महबूबा’ गीत के समय उसके कलाकार ह्रदय का परिचय मिलता है। अन्य डाकुओं की तरह उसका ह्रदय शुष्क नहीं था। वह जीवन में नृत्य-संगीत एवं कला के महत्त्व को समझता था। बसन्ती को पकड़ने के बाद उसके मन का नृत्यप्रेमी फिर से जाग उठा था। उसने बसन्ती के अन्दर छुपी नर्तकी को एक पल में पहचान लिया था। गौरतलब है कि कला के प्रति अपने प्रेम को अभिव्यक्त करने का वह कोई अवसर नहीं छोड़ता था।

4. अनुशासनप्रिय:

जब कालिया और उसके दोस्त अपने प्रोजेक्ट से नाकाम होकर लौटे तो उसने कतई ढीलाई नहीं बरती। अनुशासन के प्रति अपने अगाध समर्पण को दर्शाते हुए उसने उन्हें तुरंत सज़ा दी।

5. हास्य-रस का प्रेमी:

उसमें गज़ब का सेन्स ऑफ ह्यूमर था। कालिया और उसके दो दोस्तों को मारने से पहले उसने उन तीनों को खूब हंसाया था ताकि वो हंसते-हंसते दुनिया को अलविदा कह सकें। वह आधुनिक युग का ‘लाफिंग बुद्धा’ था।

6. नारी के प्रति सम्मान:

बसन्ती जैसी सुन्दर नारी का अपहरण करने के बाद उसने उससे एक नृत्य का निवेदन किया। आज-कल का खलनायक होता तो शायद कुछ और करता।

7. भिक्षुक जीवन:

उसने हिन्दू धर्म द्वारा दिखाए गए जीवन के रास्ते को अपनाया था। रामपुर, रामगढ़ और अन्य गाँवों से उसे जो भी सूखा-कच्चा अनाज मिलता था, वो उसी से अपनी गुजर-बसर करता था। बिरयानी या चिकन मलाई टिक्का की उसने कभी इच्छा ज़ाहिर नहीं की।

8. सामाजिक कार्य:

डकैती के पेशे के अलावा वो छोटे बच्चों को सुलाने का भी काम करता था।

Check Also

Weekly Bhavishyafal

साप्ताहिक भविष्यफल स‍ितंबर 2021

साप्ताहिक भविष्यफल 19 – 25 स‍ितंबर, 2021 Weekly Bhavishyafal भविष्यफल स‍ितंबर 2021: पंडित असुरारी नन्द …