दुनिया मेँ 3 तरह के लोग-There are 3 kind of people

दुनिया मेँ 3 तरह के लोग-There are 3 kind of people

दुनिया मेँ 3 तरह के लोग होते हैँ – दुखी, सुखी और भक्त| आभाव और निराशा के कारण दुखी आदमी हमेशा परेशान रहता है तो सुखी आदमी अपने सुख से उकता जाता है और वह ‘मन मांगे मोर’ की धारा मेँ बहता रहता है| विश्व के सम्पत्र राष्ट्रों के देश भारत के अध्यात्मिक ज्ञान की तरफ आकर्षित होते है तो भारत के लोग उनकी भौतिक सम्पत्र्ता से प्रभावित होते है| पश्चिम में तनाव है तो पूर्व वाले भी सुखी नहीँ|

कहने का तात्पर्य है कि लोग इस मायावी संसार मेँ केवल दैहिक सुख सुविधाओं के पीछे भागते है| जिसके भौतिक साधन नही हैं वह कर्ज वगैरह लेता है और फिर उसे चुकाते हुए तकलीफ उठाता है और अगर वह चीज़ें नहीँ खरीदे तो परिवार के लोग उसका जीना हराम कर देते हैँ| सुख सुविधा का समान खरीद लिया तो दैहिक श्रम मेँ स्त्री – पुरुष विरक्त हो जाते हैँ और इस कारण स्वास्थ्य बिगड़ने लगता है| जिन लोगोँ ने अध्यात्म ज्ञान प्राप्त कर लिया है यह जीवन को दृष्टा की तरह जीते हैँ और भौतिकता के प्रति उनका आकर्षण केवल उतना ही रहता है जिससे देह का पालन – पोषण सामानय ढंग से हो सके| वे भौतिकता की चकाचौंध मेँ आकर अपना हृदय मलिन नहीँ करते और किसी चीज के आभाव मेँ उसकी चिंता नहीँ करते| ऐसे ही लोग वास्तविक राजा हैँ| जीवन का सबसे बड़ा सुख मन की शांति है और किसी चीज़ का अभाव खलता है तो इसका आशय यह है कि हमारे मन में लालच का भाव है और कहीँ अपने आलीशान महल मेँ भी बैचेनी होती है तो यह समझ लेना चाहिए की हमारे अंदर ही खालीपन है| दुख और सुख से आदमी परे तभी हो सकता है जब वह निष्काम भक्ति करे|

Check Also

Munshi Premchand Short Story Bade Ghar Ki Beti in Hindi बड़े घर की बेटी

बड़े घर की बेटी: ग्रामीण घर गृहस्थी पर मुंशी प्रेमचंद की अमर कहानी

बड़े घर की बेटी मुंशी प्रेमचंद जी द्वारा लिखित प्रसिद्ध कहानी है। इस कहानी में …