Cancer

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021 Cancer Rashifal

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021:

जानिए जनवरी से लेकर दिसंबर तक का भविष्यफल

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021: कर्क राशि वालों के लिए भी यह 2021 का साल बहुत अच्छा जाने वाला है। कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021 (Kark Rashifal 2021) की वर्ष कुंडली कन्या लग्न की बन रही है। चंद्रमा का लाभ स्थान में होना, लाभ के नित्य नये आयाम बनाने वाला होगा। जो आपके लिए धन लाभ का प्रबल योग बना रहा है। सूर्य का धनु राशि में बुद्ध के साथ आने से बुधादित्य योग बन रहा है, जो आपके करियर को नित नए आयाम ले जाने में आपकी मदद करेगा। यह साल आपके हर पक्ष के लिए शुभ संकेत दे रहा है। अपनी सूझबूझ से आप इस वर्ष अपने लक्ष्यों को प्राप्त करने में सफल हो सकते हैं। कुछ परेशानियां रहेंगी, परंतु अधिकतर समय आपके लिए सही रहेगा। सूर्य का गोचर होना धनु राशि से निकलकर मकर में आना मकर का सूर्य का करियर को देखना एक बहुत ही मान सम्मान दिलाने वाला योग बनाएगा। वर्ष का आगाज आपके लिए बहुत ही अच्छा रहेगा।

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021 का पहला तिमाही आपके लिए अच्छा संकेत दे रहा है। पहले चरण की बात करें तो जनवरी माह में मंगल का अपने घर मेष राशि में बैठना और धन को देखना आपके वित्त के लिए बेहद चौंकाने वाला परिणाम देगा। काफी समय से चल रही वित्तीय परेशानियां दूर हो सकती है। समय का सदुपयोग करें। धन लाभ आपको आपके कार्य व पराक्रम से होगा, क्योंकि धन का स्वामी पराक्रम भाव में बैठना एक पराक्रम में वृद्धि तथा धन के लिए अच्छा योग बनाता है। स्वास्थ्य भी उत्तम रहेगा, वैवाहिक जीवन पति पत्नी के बीच में प्रेम प्यार व कर्क लवर्स के लिए भी जनवरी का महीना बहुत अच्छा जाने वाला है।

फरवरी का समय भी कर्क राशि वालों के लिए अच्छा ही जाने वाला होगा क्योंकि भाग्य का स्वामी त्रिकोण में चला जाएगा, भाग्येश का कर्म स्थान को देखना एक केंद्र त्रिकोण का राजयोग बना देगा। इसके साथ ही चार ग्रह, सूर्य, शुक्र, शनि और बृहस्पति का सुख के घर में बैठना एक सुख संबंधी योग बनाता है, जिससे आपके कार्यों में वृद्धि, बिज़नेस के लिए यह समय बहुत अच्छा रहेगा, व्यापार नित्य बढ़ेगा, उसका विस्तार होगा।

पहली तिमाही के अंतिम माह मार्च, कर्क राशि वालों के लिए उतार-चढ़ाव वाला रहेगा। इस समय आपको कार्यक्षेत्र पर ध्यान देना होगा समय आपके करियर के लिए सामान्य रहने वाला है। क्योंकि सूर्य का गोचर होकर कुंभ राशि में आना कार्य क्षेत्र को देखना वह सुख के स्वामी का शुक्र के साथ बैठना, पराक्रम का स्वामी शनि का पराक्रम स्थान में बैठना पराक्रम में वृद्धि, व्यापार करने वालों के लिए भी समय अच्छा रहेगा, लेकिन वैवाहिक जीवन पति पत्नी के बीच में मनमुटाव ला सकता है। प्रेम वालों के लिए भी यह समय बहुत अच्छा नहीं कह सकते हैं। मंगल का भी गोचर कर वृष राशि में आकर राहु के साथ बैठना, प्रेम में बाधा मनमुटाव व झगड़े का योग बनाने वाला बन जाता है जिसकी वजह से प्रेम में बाधा आएंगी।

एस्ट्रोयोगी ज्योतिषी की माने तो अप्रैल माह में कुछ परिस्थितियों में सुधार होगा। व्यापार व नौकरी करने वालों के लिए यह सही समय है। भाग्य का स्वामी सूर्य का गोचर हो करके मीन राशि में उच्च का शुक्र के साथ बैठना, आपके लिए सुखद रहेगा। इस योग से प्रमोशन व इंक्रीमेंट होने की पूरी संभावना बन रही है। इस माह में आपका व्यापार भी विस्तार करेगा। केवल स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें, स्वास्थ्य में उतार-चढ़ाव रहेगा।

दूसरे तिमाही का मध्य समय आपके करियर को और आगे ले जाएगा। आप इस समय में जॉब चेंज करने पर विचार कर सकते हैं। इसमें सफलता भी मिल सकती है। लेकिन व्यापार तथा वैवाहिक जीवन के लिए समय को बहुत अच्छा नहीं कह सकते हैं। सूर्य का गोचर कर मेष राशि में उच्च का होकर के सुख के स्थान में भाग्य के स्वामी के साथ बैठना भाग्य में वृद्धि करेगा। इस समय आपका भाग्य आपके आगे चलेगा। कार्यक्षेत्र में उन्नति होगी। इसके साथ ही आपकी वित्त में भी बेहतरीन उछाल होगा। क्योंकि मंगल भी गोचर करके मिथुन राशि में चले जाएंगे और मंगल की दृष्टि चंद्रमा पर पड़ रही होगी तब एक लक्ष्मीनारायण योग बन जाता है लेकिन चंद्रमा का बारहवें स्थान में बैठने से मन चंचल रहेगा। एकाग्रता व स्थिरता नहीं रहेगी। 23 मई को शनि मकर में वक्री हो जाएंगे इन राशि वालों के लिए वैवाहिक जीवन या रिलेशन वालों के लिए यह समय बहुत अच्छा नहीं कह सकते क्योंकि शनि की दृष्टि उन्हीं घरों पर रहेगी।

20 जून को संबंधों के लिए परिस्थिति में सुधार होगा। बृहस्पति का वक्री होकर केंद्र में बैठना वैवाहिक जीवन के लिए अच्छा परिणाम देगा। पति पत्नी के बीच में प्यार को बढ़ायेगा। प्रेमियों के लिए भी समय शुभ है। साथी के साथ चल रहा मनमुटाव खत्म हो सकता है। इसके साथ ही आपके भाग्य में वृद्धि होगी। मानसिक टेंशन बनी रहेगी, क्योंकि चंद्रमा का शनि के साथ बैठना वक्र शनि की कार्यक्षेत्र पर दृष्टि होना आपके कार्य व स्वास्थ्य के लिए भी इस समय को अच्छा नहीं बना रहा है।

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021 के हिसाब से मंगल का गोचर कर मिथुन राशि में भाग्य के स्वामी शुक्र के साथ बैठना एक केंद्र त्रिकोण का राजयोग बनाएगी। जिससे आपके भाग्य में वृद्धि जिसका असर व्यापार में उन्नति से रूप में देखने को मिलेगा। सूर्य का गोचर हो करके वृष राशि में आना राहु के साथ बैठना एक ग्रहण योग बन जाता है मन में एनर्जी का अभाव रहेगा कार्यों में सफलता तो मिलेगी लेकिन मानसिक टेंशन भी साथ में चलते रहेंगे।

जुलाई का महीना भी कर्क राशि के बिज़नेस वर्ग के लिए तो उत्तम रहेगा लेकिन कार्यक्षेत्र वालों के लिए यह समय एक संघर्ष वाला होगा। कार्यक्षेत्र में नित्य परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। लांछन, झूठा होने के दोष के कारण परेशानियां हो सकती है। मेहनत करने वालों के लिए यह अच्छा समय रहेगा। स्वास्थ्य संबंधी भी अच्छे रिजल्ट मिलेंगे। विदेश संबंधी योग भी बनता दिखायी दे रहा है। विदेश जाने वाले अगर कोशिश कर रहे हैं तो उन्हें सफलता मिल सकती है। धन का काफी उत्तम योग रहेगा। भाग्य स्थान पर शनि की दृष्टि पड़ने से भाग्य भी साथ नहीं देगा कोर्ट कचहरी के भी चक्कर लगाने पड़ सकते हैं।

अगस्त का महीना भी कर्क राशि वालों के कार्यक्षेत्र और व्यापार करने वालों के लिए एक बहुत अच्छा रहेगा, क्योंकि शनि का करियर में बैठना अच्छे परिणाम देने वाला बन जाता है। व्यापार का स्वामी शुक्र का मंगल के साथ त्रिकोण में जाकर बैठना व्यापार में उन्नति, कार्यों में सफलता दिलायेगा। सूर्य का गोचर करके कर्क राशि में पराक्रम के स्वामी बुध के साथ बैठना बुधादित्य योग बनाने वाला बन जाएगा। शनि का वक्री होना कार्य क्षेत्र के लिए तो बहुत अच्छा रहेगा, लेकिन स्वास्थ्य की दृष्टि से बहुत अच्छा नहीं कह सकते। बृहस्पति का वक्री होकर कुंभ राशि में बैठना अशुभ फल न देकर के शुभ फल देने वाला है। धन लाभ होगा। लेकिन स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें।

कर्क राशि वार्षिक भविष्यफल 2021 संकेत दे रहा है कि सितंबर का महीना भी आपके लिए बहुत अच्छा जाने वाला है। आपको अच्छे-अच्छे रिजल्ट मिलेंगे। नौकरी व व्यापार करने वालों के लिए इस समय को बहुत अच्छा कह सकते हैं। सूर्य का गोचर अपने घर में हो रहा है। सूर्य का पराक्रम में बैठना, लाभेश के स्वामी मंगल का साथ होना मंगल का भी गोचर करके सिंह राशि में जाना आपको कार्यों में सफलता, विस्तार, कार्यक्षेत्र में उन्नति, प्रमोशन, इंक्रीमेंट के योग बनाएगा। बृहस्पति का वक्री होकर के भाग्य में बैठना भी इनके लिए अशुभ नहीं, शुभ परिणाम देने वाला होगा लेकिन शनि का वक्री होकर के अष्टम में बैठना, रोग के घर को देखना धन के घर को देखना धन हानि का संकेत कर रहा है। रोग के कारण धन व्यय हो सकता है।

अक्टूबर के महीने में स्थिति में बदलाव होगा। नौकरी वालों के लिए संघर्ष का समय लौटेगा। कार्यों में सफलता कम असफलता ज्यादा मिलेगी, परंतु परिश्रम करने पर आपको परिणाम अच्छे मिल सकते हैं। इस समय मन में परेशानियां रहेंगी। बिज़नेस वालों के लिए या वैवाहिक जीवन वालों के लिए भी यह समय अच्छा नहीं है, लेकिन सूर्य का गोचर कर कन्या राशि में सुख स्थान में मंगल के साथ बैठना करियर व विदेश में पढ़ाई करने के इच्छुक जातकों के लिए सही रहेगा। मेहनत का फल मिलेगा जो मेहनत करेगा उसे ही फल मिलेगा।

चौथे तिमाही के मध्य का समय यानी की नवंबर का महीना भी कर्क राशि वालों के लिए उतार-चढ़ाव वाला ही रहेगा। उत्साह की कमी रहेगी। आत्मबल, आत्मविश्वास कम होगा। जिसके लिए आपको ध्यान व योग का सहारा लेना चाहिए। नौकरीपेशा व व्यापार करने वालों के लिए तो यह समय बहुत अच्छा रहेगा। लेकिन कार्य के प्रति मन में एनर्जी का अभाव आत्मविश्वास की कमी रहेगी जो आपको थोड़ा परेशान कर सकती है। इस माह में आपको धन लाभ होगा। विदेश जाने वालों के लिए भी अच्छा समय है। सूर्य गोचर कर तुला राशि में नीच के हो जाएंगे, जिसके कारण आपके मन में नेगेटिव विचार बन सकता है। शनि और बृहस्पति का मार्गी होकर के केंद्र में बैठना एक केंद्र त्रिकोण का राजयोग बनाना आपको सफलता दिलाने वाला समय बनाएगा।

दिसंबर का समय कर्क राशि वालों के लिए बहुत अच्छा जाने वाला समय रहेगा, क्योंकि सूर्य का केंद्र व लग्न का स्वामी होकर के केंद्र में वृश्चिक राशि में बुध के साथ आना कार्य में सफलता, करियर में नाम व ग्रोथ का योग बनायेगा। इस समय प्रोमोशन, इंक्रीमेंट होने के प्रबल योग हैं। पैसों के लिए भी एक बहुत अच्छा समय कह सकते हैं। आपको आपका रुका धन मिल सकता है। क्योंकि मंगल भी तीसरे घर में जाकर के भाग्य व कर्म को देखेगा। कर्म व भाग्य में अच्छे परिणाम देने वाला योग बना देता है, लेकिन बृहस्पति का सप्तम भाव में बैठना व्यापार व पर्सनल में परेशानी का कारण बन सकता है। 19 दिसंबर को शुक्र वक्री हो जाएंगे जो कि पंचम में बैठे हुए हैं, वक्र शुक्र कर्क लवर्स को अच्छा परिणाम नहीं देंगे। प्रेम करने वालों के लिए यह समय उतार-चढ़ाव वाला रहेगा। किंतु धन में वृद्धि होगी।

कुल मिलाकर वर्ष आपके परिश्रम व सूझबूझ के अनुसार परिणाम देगा। छोटी मोटी दिक्कतें आ सकती है। धैर्य बनाए रखें, बेहतर रहेगा।

Check Also

Virgo

Virgo Monthly Horoscope: May 2021

Virgo Monthly Horoscope (August 23 – September 22) Virgo Monthly Horoscope: Virgo is the sixth …